Updated -

mobile_app
liveTv

चाइनीज मांझे के कारण हुई 9 साल की बच्ची की मौत

जयपुर । राजधानी में मकर सक्रांति के त्योहार पर भले ही पुलिस प्रशासन ने सुबह और शाम दो-दो घंटे पतंगबाजी पर रोक लगाने के आदेश जारी कर रखे हो। साथ ही धातु और चाइनीज मांझे की बिक्री पर रोक लगा रखी हो, लेकिन एक बार फिर एक बच्ची की मौत के बाद पुलिस-प्रशासन के दावों की पोल खुल गई है। 
शुक्रवार को धातु मिश्रित मांझे के कारण करंट से झुलसी 9 साल की बच्ची आफरीन की इलाज के दौरान मौत हो गई। लेकिन अभी पुलिस यह खुलासा नहीं कर सकी है, जयपुर शहर में कौन-कौन से पतंग विक्रेता धातु मिश्रित और चाइनीज मांझा बेच रहे है। सिर्फ दुकानों पर पुलिस वाले सर्वे कर रहे है, लेकिन यह पता नहीं लगा पा रहे है कि आखिर यह मांझा कहां बेचा जा रहा है। 

वहीं जयुपर डिस्कॉम भी इस तरह के मांझे के कारण परेशान है। जयपुर डिस्कॉम के सिटी सर्किल ने पतंगबाजी को बिजली के तारों से दूर रहने की हिदायत दी है। जिससे दुर्घटनाओं से बचा जा सके और शहर की बिजली आपूर्ति में कोई समस्या पैदा नहीं हो। 

जयपुर डिस्कॉम के मुताबिक मेटेलिक मांझे के बिजली के तारों में उलझने से हाई वॉल्टेज का खतरा रहता है और घरेलू उपकरणों को नुकसान होता है। इसके अलावा बेजुबान पक्षियों को इस मांझे के कारण जान का खतरा रहता है और पतंगबाजी के कारण सैंकड़ों पक्षी घायल हो जाते है

पिछले 24 सालों से इस राज्ये से नहीं मिला राजस्थान को आवंटित यमुना का पानी

जयपुर।राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अन्तर्राज्यीय जल समझौतों की पूर्ण रूपेण पालना करवाने के लिए केन्द्र सरकार से हस्तक्षेप करने का आग्रह करते हुए कहा है कि ताजेवाला हैड से राजस्थान को आवंटित यमुना जल के सम्बंध में हरियाणा सरकार द्वारा अब तक सहमति नहीं दिये जाने के फलस्वरूप राजस्थान पिछले 24 वर्षो से अपने विधि संगत अधिकारोंं से वंचित हो रहा है । इसके चलते प्रदेश के चूरू, झुन्झुनु एवं सीकर जिले की जनता सिंचाई सुविधा एवं पेयजल से वंचित हो रही है। इसी प्रकार ओखला हेड से भी राज्य के भरतपुर जिले को अपने हिस्से का पूरा पानी नही मिल पा रहा है।
गहलोत ने शुक्रवार को नई दिल्ली में केन्द्रीय जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा पुर्नरूद्धार मंत्री नितिन गडकरी की उपस्थिति में रेणुकाजी बांध बहुउददेश्यीय परियोजना के लिए छः राज्यों के मध्य हुए अनुबंध पर हस्ताक्षर के लिए आयोजित समारोह में यह बात कही।
उन्हाेंने बताया ताजेवाला हैड पर आवंटित जल को राजस्थान ले जाने के लिये वर्ष 1994 में पांच राज्यों के मध्य हुए एम.ओ.यू. के अन्र्तगत वर्ष 2003 से हरियाणा सरकार से एम.ओ.यू. पर हस्ताक्षर करवाने के लिये लगातार प्रयास किये जा रहे है, जिससे परियोजना की लागत में अत्यधिक वृद्धि हुई हैं । गहलोत ने कहा कि हरियाणा सरकार को एम.ओ.यू. पर शीघ्र सहमत कराये जाने हेतु निर्देश प्रदान किये जाये जिससे राजस्थान को उसके हिस्से का जल प्राप्त हो सके।

मुख्यमंत्री ने बताया कि ओखला हेड से भी राज्य के भरतपुर जिले को अपने हिस्से का पूरा पानी नही मिल रहा है। गत 17 वर्षो के आंकड़ों के अनुसार राजस्थान को उपलब्ध पानी का लगभग 40 प्रति6ात पानी ही प्राप्त हुआ हैं। जिसका मुख्य कारण सही मात्रा मे पानी नहीं छोडा जाना एवं पानी का अवैध दोहन किया जाना है । 

उन्हाेंने केन्द्र से आग्रह किया कि हरियाणा एवं उत्तरप्रदेश राज्यों को अपने क्षेत्र में राजस्थान के हिस्से के जल का अवैध दोहन रोकने एवं राज्य के हिस्से का पानी दिलाने का निर्देश प्रदान करावें ।

गहलोत ने केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री से आग्रह किया कि पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना के माध्यम से राजस्थान के 13 जिलों झालावाड, बारां, कोटा, बूंदी, सवाईमाधोपुर, अजमेर, टोंक, जयपुर, दौसा, करौली, अलवर, भरतपुर एवं धौलपुर जिलों में पेयजल एवं 2 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में नवीन सिंचाई सुविधा उपलब्ध करवाने की महत्वाकांक्षीं परियोजना पर मध्यप्रदेश द्वारा अन्र्तराज्यीय जल के संबध में किये जा रहे आक्षेप सही नही है। परियोजना की रिर्पोट राजस्थान एवं मध्यप्रदेश के मध्य वर्ष 1999 एवं 2005 मे हुए समझोते के अनुसार बनाई गयी है। अतः मध्यप्रदेश के आक्षेपों को खारिज कर पूर्वी राजस्थान की नहर परियोजना की डी.पी.आर. का केन्द्रीय जल आयोग से शीघ्र अनुमोदन करायें।

इंसेंटिवाइजेसन स्कीम फॉर ब्रिजिंग इरीगेशन गेप (आई.एस.बी.आई.जी.) योजना की चर्चा करते हुए गहलोत ने बताया कि राजस्थान में भारत सरकार के सिंचित क्षेत्र विकास एवं जल प्रबंधन कार्यक्रम ( सी.ए.डी.डब्ल्यू.एम.) के अंतर्गत केंद्रीय सहायता से चल रही सात परियोजनाओं को अप्रैल 2017 से बन्द कर दिया गया है तथा इसके स्थान पर इंसेंटिवाइजेसन स्कीम फॉर ब्रिजिंग इरीगेशन गेप योजना प्रस्तावित की गई है परन्तु केन्द्र सरकार द्वारा योजना के क्रियान्वयन हेतु अभी दिशा निर्देश प्राप्त नही हुए है जिसकी वजह से किसानों का सिंचाई का वांछित लाभ नही मिल पा रहा है। 

गहलोत ने बताया कि इस योजना के अन्तर्गत पूर्व में संचालित सात परियोजनाओं मे शेष बचे 6 लाख 83 हजार 656 हेक्टेयेर कमांड क्षेत्र तथा राज्य सरकार द्वारा प्रस्तावित आठ नवीन योजनाओं के 3 लाख 5 हजार 862 हेक्टेयर कमांड क्षेत्र के लिये कुल 6193 करोड रूपये केन्द्र सरकार की मंजूरी के लिये लंबित हैै। उन्हाेंने कहा कि राज्य के 9 लाख 89 हजार 518 कमांड क्षेत्र को लाभान्वित करने वाली इन परियोजनाओं केा शीघ्र मंजूरी प्रदान कर केन्द्रीय सहायता जारी करवाई जाये जिससे किसानों को वांछित लाभ दिलवाया जा सके।

पहले इन बैंकों से होगी ऋणमाफी - शांति धारीवाल

जयपुर । प्रदेश के नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि फसल ऋण माफी के लिए वित्तीय संसाधनों का जुगाड़ किया जा रहा है। तभी जाकर फसली ऋण माफी योजना पर कार्य होगा। शासन सचिवालय में पत्रकारों से बातचीत में धारीवाल ने कहा कि सभी किसानों का दो लाख रुपये तक का कर्जा माफ होगा, चाहे कोई डिफाल्टर हो या कोई रेग्युलर हो।
उन्होंने कहा कि 30 नंवबर 2018 तक का सभी किसानों का कर्जा माफ हो जाएगा। इस दूसरी बैठक में इस बात पर आकलन किया गया कि कितने किसानों को प्रदेश के सहकारी बैंकों और भूमि विकास बैंकों से राहत दी जा सकती है।

इसके बाद राष्ट्रीयकृत सहकारी बैंकों की ऋण माफी का आकलन होगा।उन्होंने कहा कि मुख्य सचिव के जरिये सभी जिला कलेक्टरों को खत भी लिखकर यह जानकारी मांगी जा रही है कि उनके जिले में वर्ष 2014 से दिसंबर 2018 तक कितने किसानों ने उपज का दाम नहीं मिलने पर आत्महत्या की है। ऐसे किसानों का भी ऋण माफ किया जाएगा।

वहीं कमेटी की बैठक में सामाजिक न्याय मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल अपनी व्यस्तता के चलते नहीं आ पाए । बैठक में उद्योग मंत्री परसादी लाल मीणा ,सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना, कृषि मंत्री लालचंद कटारिया, वन पर्यावरण राज्य मंत्री सुखराम विश्नोई ,उच्च शिक्षा राज्य मंत्री भंवर सिंह भाटी शामिल हुए । साथ ही सीएस डीबी गुप्ता, मुख्यमंत्री के सलाहकार डॉ गोविंद शर्मा सहकारिता प्रमुख शासन सचिव अभय कुमार कृषि विभाग के एसीएस पी के गोयल सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे ।

इतनी जनवरी को होगी लोकसभा में कांग्रेस उम्मीदवारों के पैनल बनाने की बैठक

जयपुर। कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर तैयारियों को अमलीजामा पहनाने का कार्य तेजी से प्रारंभ कर दिया है। प्रदेश की सभी 25 सीटों पर उम्मीदवारों के पैनल बनाने के लिए रविवार को बैठक होगी।

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट के निर्देश पर लोकसभा चुनावों के लिए राज्य की 25 लोकसभा क्षेत्रों से कांग्रेस उम्मीद्वारों के पैनल तैयार करने की योजना बना ली है। इसको अमलीजामा पहनाने के लिए 13 जनवरी को जिला मुख्यालयों पर जिला कांग्रेस कार्यकारिणी की बैठक जिला कांग्रेस अध्यक्ष की अध्यक्षता में होगी। बैठकों में राज्य सरकार के जिला प्रभारी मंत्री, प्रदेश कांग्रेस के जिला प्रभारी , विधायक सहित आदि कांग्रेस नेता भाग लेंगे। माना जा रहा है कि जनवरी महीने के अंत में 25 सीटों के उम्मीदवारों के पैनल तैयार कर केन्द्रीय नेतृत्व में सौंपने की योजना है।

एटीएस-एसओजी की संयुक्त टीम ने इस परीक्षा में नकल गिरोह का किया भंडाफोड

जयपुर। रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स (आरपीएफ) ने 9 जनवरी को होने वाली आरपीएफ सब इंस्पेक्टर भर्ती तीसरे फेज की परीक्षा स्थगित कर दी है। वहीं दूसरी और रेलवे राजधानी जयपुर में रेलवे सुरक्षा बल की उपनिरीक्षक भर्ती परीक्षा में नए तरीके से नकल करने का मामला सामने आया है। पुलिस ने 7 लोगों को गिरफ्तार किया है। ये सभी 16 लाख रुपए में एक अभ्यर्थी को कराने को लेकर तय हुआ था। इसके तहत अभ्यर्थी को मनपसंद परीक्षा केन्द्र आवंटन करवाना, अभ्यर्थी की पसंद के पर्यवेक्षकों को ड्यूटी पर लगाना और नकल के लिए पसंद के ही व्यक्ति उपलब्ध कराना तय था।

एटीएस-एसओजी की संयुक्त टीम ने इसका खुलासा कर 7 लोगों को गिरफ्तार किया है। इसमें असली अभ्यर्थी और थर्ड ग्रेड टीचर भी शामिल थे। एसओजी के आईजी नितिनदीप बल्गन ने बताया कि गिरफ्तार अभ्यर्थी सुरेश चौधरी फुलेरा के बोबास, उसका रिश्तेदार मुकेश चौधरी, राकेश चौधरी व विष्णु अजयराजपुरा का रहने वाला है। प्रदीप चौधरी झुंझुनूं के खेतडी फर्जी अभ्यर्थी दिनेश विश्नोई जालौर का रहने वाला है। पर्यवेक्षक थर्ड ग्रेड टीचर कैलाश विश्नोई भी जालौर का निवासी है और वर्तमान में सिरोही के एक स्कूल में शिक्षक है। 

सूचना मिली थी आरोपी सुरेश ने 16 लाख रुपए के पैकेज में कालवाड स्थित डॉ. राधाकृष्णन इंस्टीट्यूट और टेक्नोलॉजी में नकर के लिए साठ गांठ की है तीन लाख रुपए दोनों पर्यवेक्षकों को देना तय हुआ था जबकि इतनी ही रकम फर्जी अभ्यर्थी को देना तय था। राकेश चौधरी पहले भी कॉलेज में पर्यवेक्षक और अन्य लोगों को काम पर लगवा चुका है।

इतने डिग्री पहुंचा फतेहपुर का तापमान, हवाओं में गलन के साथ ठिठुरन बढ़ी

राज्यवर्धन ने शुरू किया खेलो इंडिया चैलेंज, वीडियो डालकर पूछी 5 मिनट खेलने की कहानी

जयपुर । केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने ट्विटर पर एक नए अभियान की शुरुआत की। उन्होंने इसका वीडियो भी अपलोड किया है। इसमें वह टेबल टेनिस खेलते हुए नजर आ रहे हैं। इस वीडियो के माध्यम से राठौड़ ने देश की जनता को पांच मिनट खेलने का चैलेंज दिया। साथ ही, खेलों से जुड़ीं अपनी पांच मिनट की कहानी भी शेयर करने के लिए भी कहा है। राज्यवर्धन ने इस वीडियो के माध्यम से लोगों को खेलने की सलाह भी दी। राठौड़ इससे पहले हम फिट तो इंडिया फिट अभियान की शुरुआत भी कर चुके हैं। इससे प्रधानमंत्री मोदी से लेकर विराट कोहली तक जुड़े थे। राज्यवर्धन 2002 में मैनचेस्टर कॉमनवेल्थ में शूटिंग में स्वर्ण पदक जीत चुके हैं। 2004 में एथेंस ओलिंपिक में उन्होंने डबल ट्रैप शूटिंग में रजत पदक जीता था। 2013 में वे भाजपा से जुड़े और 2014 में जयपुर ग्रामीण सीट से सांसद चुने गए।

गहलोत सरकार से नाराज हुए स्पीकर कैलाश चंद्र मेघवाल

जयपुर । गहलोत सरकार को विधानसभा सत्र बुलाने से पहले विधानसभा स्पीकर कैलाश चंद्र मेघवाल से रायमशविरा नहीं करना भारी पड़ रहा है। इसके चलते स्पीकर कैलाश चंद्र मेघवाल ने राज्यपाल कल्याण सिंह से मुलाकात करके अपनी आपत्ति दर्ज करवा दी है। यह राजस्थान विधानसभा के इतिहास में पहला मौका है, जब स्पीकर ने राज्यपाल की तरफ से सत्र आहूत होने की सूचना के बाद भी समन जारी नहीं किए है।
वहीं गुरुवार को एक प्रेस वार्ता में स्पीकर कैशाल चंद्र मेघवाल ने कहा कि नियमों के तहत नई सरकार को विधानसभा सत्र आहूत करने से पहले स्पीकर से चर्चा करनी होती है, यह एक अनिवार्य शर्त है, इसके बाद ही विधानसभा सत्र बुलाया जा सकता है। लेकिन सरकार ने 15वीं विधानसभा का पहला सत्र 15 जनवरी 2019 को बुलाना तय किया है, और इसकी सूचना संसदीय कार्य विभाग से मुझे 8 जनवरी को पत्र के जरिये प्राप्त हुई थी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत तीसरी बार सीएम बने है और अनुभवी है और संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल भी अनुभवी है, लेकिन किसी ने भी चर्चा नहीं की, और सत्र आहूत राज्यपाल के जरिये करवा दिया। उन्होंने कहा कि अगर सत्र आहूत होता है,तो यह नियमों के विरूद्ध होगा। लेकिन इससे पहले मुझसे चर्चा की जाएगी, फिर सभी बातों को ध्यान में रखते हुए सत्र आहूत किया जा सकता है। इसलिए अभी तक मैंने समन भी जारी नहीं किए है। उन्होंने कहा कि सत्र आहूत किये जाने तारीख में 21 दिन की समयावधि भी देखनी होती है, लेकिन यह भी गहलोत सरकार ने नहीं देखा है, जो कि नियमों का उल्लंघन है। 


मेघवाल ने कहा कि गहलोत सरकार अपनी गलती स्वीकार करें और मुझसे चर्चा करे। उन्होंने कहा कि संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल का भी इस मामले में मुझे फोन आ चुका है। लेकिन अगर वह चर्चा करेंगे, तो स्पीकर होने के नाते नियमों के तहत सभी कार्य पूरे होंगे।

किसान रैली में राहुल ने मोदी पर साधा निशाना

जयपुर | कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को राजस्थान की राजधानी जयपुर के विद्याधर नगर स्टेडियम में कांग्रेस की किसान रैली को संबोधित किया। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का मंच पर राजस्थानी परम्परा से स्वागत हुआ। डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने पार्टी अध्यक्ष को राजस्थानी साफा पहनाया। जबकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने चरखा भेंट किया। राहुल गांधी को मंच पर किसानों का प्रतीक हल और जैली भी भेंट की गई।


कांग्रेस की किसान रैली को संबोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि सरकार का मालिक राजस्थान की जनता यहां का युवा है। हमारा काम आपकी आवाज सुनना है। हमारे दरवाजे हमेशा आपके लिए खुले हैं।

राहुल गांधी ने कहा कि जो समस्या राजस्थान के किसान के लिए है वही पूरे हिंदुस्तान के किसान की है। आज किसान अपनी समस्या नहीं देख पा रहा है।

राहुल गांधी ने पीएम नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि राजस्थान की जनता और किसान ने ये संदेश दिया है कि जबतक आप किसानों का कर्जा माफ नहीं करेंगे तबतक आपको चैन से सोने नहीं देंगे।

कांग्रेस की किसान रैली को संबोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि हिंदुस्तान के किसानो के लिए प्लानिंग की जरूरत है। हमें किसान की शक्ति को पहचानना होगा क्योंकि देश को नई सोच की जरूरत है।

राहुल गांधी ने कहा कि किसानों से कहना चाहता हूं कि उन्हें किसी से डरने की जरूरत नहीं है। हिंदुस्तान का किसान बैकफुट पर बैटिंग ना करे। हम फ्रंटफुट पर खेलेंगे और छक्का मारेंगे। पीएम मोदी तो बैकफुट पर जाकर खेलते हैं।


किसान रैली को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा। राहुल ने कहा कि सीबीआई के डायरेक्टर को मोदी ने रात को 10 बजे हटाया क्योंकि वो राफेल मामले की जांच कर रहे थे। अब सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई डायरेक्टर को वापस लगाया है। पीएम मोदी पर हमला बोलते हुए राहुल गांधी ने कहा कि 56 इंच की छाती वाले पीएम राफेल मामले पर लोकसभा में एन मिनट के लिए नहीं आ पाए। रक्षा मंत्री को ढाई घंटे भाषण देना पड़ा। राहुल ने कहा कि पीएम हमारे सवाल का जवाब नहीं दे पा रहे हैं क्योकि चौकीदार ने चोरी की है।




 

सचिन पायलट ने कहा ये वादा पूरा होगा

जयपुर। किसान रैली को संबोधित करते हुए राजस्थान के डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने कहा कि कांग्रेस ने किसानों से जो कर्जमाफी का वादा किया था वो पूरा किया। अब हमारी सरकार दोबारा मनरेगा को मजबूत बनाएगी। पायलट ने किसानों को संबोधित करते हुए लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को जिताने का आह्वान किया। 

कांग्रेस की किसान रैली में सचिन पायलट ने कार्यकर्ताओं का धन्यवाद किया और कहा कि लोकसभा चुनाव में 25 की 25 सीटे कांग्रेस की झोली में डाल दें। 2 सीटें तो हम उपचुनाव में जीत ही चुके थे।

सचिन पायलट ने कहा कि तीन राज्यों में जिस ढंग से कर्जमाफी हुई, उम्मीद है आने वाले वक़्त में और अच्छी शुरुआत होगी, नरेगा का काम दोगुनी ताकत से फिर शुरू करेंगे, पिछली सरकार ने नरेगा को कमजोर किया। पायलट ने कहा कि केंद्र में राहुल गांधी के नेतृत्व में फिर से सरकार बनने जा रही है।