Updated -

राजस्थान से हज जाने वाले यात्रियों की लॉटरी 21 को

जोधपुर। राजस्थान राज्य हज कमेटी व मुंबई की ओर से इस साल हज के लिए राजस्थान से जाने वाले यात्रियों की लॉटरी 21 जनवरी को निकाली जाएगी।
मारवाड़ हज वैलफेयर सोसायटी के जनरल सैक्रेटरी अब्दुल जब्बार ने बताया, कि राजस्थान राज्य हज कमेटी जयपुर इस साल फार्म भरने वालों को कवर नंबर आवंटन करने के साथ डाक से ये नंबर ग्रुप लीडर को भेज दिए हैं। जिनके पास कवर नंबर का पत्र आ गया है, उसे जांच कर कवर नंबर पत्र की फोटो प्रति स्टेडियम शॉपिंग सेंटर स्थित हज हाउस में लाकर जमा करवा दें। सोसायटी के डायरेक्टर हाजी इकरामुद्दीन ने बताया कि जयपुर में लॉटरी निकलने पर 22 जनवरी को हाजियों की लिस्ट जोधपुर हज हाउस में चस्पा कर दी जाएगी। 

पद्मावत लेकर कानून-व्यवस्था बिगड़ने की आशंका, प्रशासन अलर्ट

जयपुर। 'पद्मावती' से 'पद्मावत' हुई संजय लीला भंसाली की फिल्म को लेकर मचा बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। विवादित फिल्म 'पद्मावत' पर कई राज्यों में लगे बैन को सुप्रीम कोर्ट द्वरा हटाने के बाद अब राजपूत संगठनों ने आंदोलन की चेतावनी दे दी है।

राजपूत संगठनों के विरोध को देखते हुए राज्य सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर विधिक राय लेकर आगामी निर्णय करने की बात कही है। वहीं फिल्म के प्रदर्शन की अनुमति मिलने पर आईबी ने प्रदेश में कानून व्यवस्था बिगड़ने की आशंका जताई है। 

आईबी की रिपोर्ट मिलने पर पुलिस मुख्यालय भी सर्तक हो गया है। सूत्रों की माने तो प्रदेश में फिल्म के प्रदर्शन का विरोध कर रहे तमाम राजपूत नेताओं और उनके छिपने वाले संभावित स्थानों की सूची पुलिस ने तैयार कर ली है। 

माना जा रहा है कि कानून व्यवस्था बिगड़ने की स्थिति में इन राजपूत नेताओं पर कार्रवाई की जा सकती है। 25 जनवरी को रिलीज होने वाली फिल्म को देखते हुए पुलिस प्रशासन भी पूरी तरह अलर्ट हो गया है। गृह विभाग की ओर से सभी जिला पुलिस अधीक्षकों को भी अलर्ट रहने के निर्देश दे दिए हैं। सुप्रीम कोर्ट से आए आदेश के बाद मामले को लेकर सरकार भी गंभीर हो गई है। 

राजस्थान में सौहार्दपूर्ण वातावरण बना रहे इसके लिए पुलिस प्रशासन अपनी रणनीति बनाने में जुट गया है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश आने के बाद गुरूवार को भी गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने भी एक आपातकालीन बैठक बुलाई। हालांकि कटारिया ने कोर्ट के फैसले का सम्मान किया है और पालना करने की बात कही है। लेकिन राजस्थान राजपूत समाज की ओर मचे गए बवाल को लेकर खुद गृहमंत्री भी अब चिंतित नजर आ रहे हैं। कारण भी साफ है। कोर्ट के आदेशों के बाद भी आका्रेशित राजपूत समाज में ठंडा नहीं हुआ है बल्कि और गुस्सा हो गया है। 

राजपूत समाज ने साफ यह चेतावनी दे डाली है कि अगर फिल्म रिलीज हुई तो पूरे प्रदेश के सिनेमाघरों में तोडफोड की जाएगी। ऐसे में शांति बनाए रखने और सौहार्दपूर्ण वातावरण बनाए रखने के लिए पुलिस प्रशासन पूरी अलर्ट हो गया है।

एडीजी लाॅ एंड आॅर्डर एन आर के रेड्डी ने खास खबर डाॅट काॅम से हुई बातचीत में कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की पालना की जाएगी। प्रदेश में किसी भी कानून व्यवस्था न बिगड़े इसके लिए पुलिस प्रशासन पूरी तरह अलर्ट है। कोर्ट के आदेशों की प्रति मिलने पर उचित कदम उठाए जाएंगे। 

EVM बैलट पर अब प्रत्याशियों के नाम, चुनाव चिह्न व फोटो लगी दिखाई देगी

जयपुर। राज्य में होने वाले लोकसभा और विधानसभा उप चुनावों में इस बार ईवीएम मतपत्र पर प्रत्याक्षियों के नाम के साथ उनकी फोटो भी लगी दिखाई देगी। देश में किसी भी लोकसभा चुनाव में पहली बार ऐसा प्रयोग किया जा रहा है।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी अश्विनी भगत ने बताया कि विभाग प्रदेश के उप चुनावों को निर्भीक-निष्पक्ष और शांतिपूर्ण तरीके से मतदान करवाने के लिए संकल्पबद्ध है। उन्होंने कहा कि एक ही लोकसभा, विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में एक ही नाम के दो प्रत्याशी होने की स्थिति में मतदाताओं की भ्रांति दूर करने के लिए भारत निर्वाचन आयोग ने यह व्यवस्था दी थी। इसके तहत मतपत्र पर चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशी की 2 गुणा 2.5 सेमी आकार की फोटो भी लगी होगी। नई व्यवस्था के तहत ईवीएम मतपत्र पर अब प्रत्याशी का नाम, फोटो और अंत में चुनाव चिन्ह दर्शाया जाएगा। नोटा में फोटो की जगह स्थान खाली रखा जाएगा तथा नोटा का चिन्ह भी अंकित होगा।

भगत ने बताया कि सेवा नियोजित मतदाताओं को भेजे जाने वाले मतपत्रों में भी फोटो अंकित होगी लेकिन उन मतपत्रों में के सबसे पहले प्रत्याशी का अंग्रेजी और हिंदी में नाम फिर चुनाव चिन्ह और आखिर में फोटो अंकित होगी। उल्लेखनीय है कि इन उप चुनावों में 11 हजार 580 सेवा नियोजित मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि आयोग के निर्देशों के अनुसार इस बार से नामांकन पत्रों पर भी प्रत्याशियों के फोटो लगाए गए हैं।

उन्होंने कहा कि हालांकि प्रदेश के धौलपुर विधानसभा उप चुनाव में यह प्रयोग किया जा चुका है, लेकिन लोकसभा के किसी भी चुनाव में यह प्रयोग पहली बार किया जाएगा। गौरतलब है कि प्रदेश के अलवर और अजमेर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र और भीलवाड़ा जिले के मां

गो माता को राष्ट्रमाता घोषित कराने के लिए दिल्ली महाआंदोलन

जयपुर। गोमाता को राष्ट्रमाता का दर्जा देने की मांग को लेकर भारतीय गो क्रांति मंच राजस्थान वैशाली नगर की ओर से बालमुकुंदाचार्य महाराज (हाथोज धाम) के सान्निध्य में गुरुवार को शहरभर में वाहन रैली निकाली गई। मंच के प्रदेश उपाध्यक्ष भगवान लाल सैन ने बताया कि गाय माता को राष्ट्रमाता घोषित करने, किसानों के लिए गोबर की खाद का प्रयोग करने, गोबर का गैस प्लांट लगाने, गोबर गैस को ही एलपीजी गैस में बदलकर मोटर वाहन चलाने और किसानों से गोबर की सरकारी खरीद करने की मांग की गई है। इन मागों को लेकर 18 फरवरी को नई दिल्ली के रामलीला मैदान में सभी गोभक्त एकत्र होंगे और अपनी आवाज बुलंद करेंगे। 
मंच के प्रदेश उपाध्यक्ष संदीप सोगानी ने बताया कि गुरुवार को निकाली गई रैली गोविंद देवजी मंदिर से रवाना होकर एमआई रोड, रामनिबास बाग, राजापार्क, तिलक नगर, जवाहर नगर, रामबाग सर्किल, टोंक रोड, डालडा फैक्ट्री, शिप्रा पथ, मानसरोवर मेट्रो स्टेशन होती हुई राठौड़ नगर, वैशाली नगर स्थित प्रदेश कार्यालय पहुंचकर संपन्न हुई। रैली में गाय माता को बचाने के लिए नारेबाजी भी की गई। इसके अलावा दिल्ली में होने वाले महाआंदोलन में शामिल होने की अपील की गई।

1.45 लाख दिव्यांगजनों को यूडीआईडी कार्ड जारी

जयपुर। मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार राज्य के विशेष योग्यजनों के सशक्तिकरण एवं कल्याण के लिए चलाये जा रहे विशेष अभियान के दौरान अब तक प्रदेश में 9 लाख 37 हजार से अधिक दिव्यांगजनों का ऑनलाईन पंजीकरण किया जाकर 1 लाख 83 हजार 106 का निःशक्तता प्रमाण पत्र जारी करने के साथ 1 लाख 45 हजार दिव्यांगजनों को यूडी.आई.डी. कार्ड बनाये जा चुके हैं। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डॉ. अरूण चतुर्वेदी ने यह जानकारी देते हुए बताया कि देश में राजस्थान यू.डी.आई.डी. कार्ड जारी करने में मध्य प्रदेश के बाद दूसरे स्थान पर है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पंजीकृत दिव्यांगजनों का प्रमाणीकरण, निःशक्तता प्रमाण पत्र बनाने एवं यू.डी.आई.डी. कार्ड बनाने का कार्य शिविरों के माध्यम से नियमित जारी है। डॉ. चतुर्वेदी ने बताया कि भारत सरकार द्वारा 21 तरह के निःशक्तता की श्रेणियों की अधिसूचना जारी कर दी गयी है। अब 21 तरह के दिव्यांगजनों का प्रमाणीकरण निःशक्तता प्रमाण पत्र जारी करने के बाद मिलने वाली सहायता एवं आवश्यक उपकरण उन्हें उपलब्ध कराये जायेंगे। डॉ. चतुर्वेदी ने बताया कि 1 जून 2017 से अब तक प्रदेश में 8 हजार 479 पंजीकरण शिविर एवं 1 हजार 801 प्रमाणीकरण शिविर आयोजित किये गये वहीं 6 हजार 259 सहायक उपकरण दिव्यांगजनों को प्रदान किये गये।

पद्मावत 25 को होगी राजस्थान में रिलीज, SC ने हटाया बैन

जयपुर। संजय लीला भंसाली की फिल्म 'पद्मावत' अब राजस्थान सहित देश के सभी राज्यों में रिलीज होगी। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को इसके रिलीज संबंधित आदेश जारी कर दिए हैं। हालांकि राजस्थान सरकार ने इस पर एक दिन पहले ही प्रतिबंध लगाया था। इससे पहले भी नाम को लेकर इसके प्रदर्शन पर रोक लगाई गई थी। 'पद्मावत' काे लेकर मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की घोषणा के बाद गृह विभाग ने बुधवार को ही फिल्म 'पद्मावत' का प्रदेश के थिएटरों में प्रदर्शन रोकने की आदेश जारी थे। इससे पहले जब इस फिल्म का नाम पद्मावती था, तब भी रोक लगाई गई थी। इस बीच, 'पद्मावत' को राजस्थान सहित चार राज्यों में बैन करने के खिलाफ निर्माता सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए। सुप्रीम कोर्ट की तीन सदस्यीय बैंच ने इस मामले में सुनवाई करते हुए इसके प्रदर्शन का रास्ता साफ कर दिया है। अब फिल्म 25 जनवरी को राजस्थानल सहित देश के सभी राज्याें में रिलीज होगी। दूसरी ओर करणी सेना अब भी फिल्म के प्रदर्शन को रोकने की मांग कर रही है।

300 किमी पीछा कर पकड़े भ्रूण लिंग जांच में लिप्त दो दलाल

श्रीगंगानगर/जयपुर। राजस्थान पीसीपीएनडीटी टीम का भ्रूण लिंग जांच करने एवं भ्रूण हत्या करने वालों के खिलाफ कार्रवाई का सिलसिला लगातार जारी है। इसी कड़ी में रविवार को टीम ने राजस्थान से करीब तीन सौ किलोमीटर दलालों का पीछा कर पंजाब के कपूरथला जिले के सुल्तानपुर लोधी स्थित दोआबा अल्ट्रासाउंड केंद्र पर डिकाय कार्रवाई कर दलाल 44 वर्षीय जगदीश कुम्हार निवासी लालगढ़, एक अन्य दलाल जगदीश राम निवासी घुंकावाली, जिला डबवाली पंजाब को गिरफ्तार कर रजिस्टर्ड सोनोग्राफी मशीन जब्त की है। 
मिशन निदेशक नवीन जैन ने बताया कि राजस्थान में हो रही कार्रवाइयों के भय से यहां के चिकित्सक भ्रूण लिंग जांच नहीं कर रहे हैं, लेकिन अन्य राज्यों में जाकर भ्रूण लिंग जांच करवाने के मामले लगातार पकड़ में आ रहे हैं। ऐसी ही सूचना श्रीगंगानगर में सक्रिय एक दलाल गिरोह की मुखबिर के जरिये मिली। इस पर कई दिनों तक नजर रखते हुए पुष्टि की कि यहां का दलाल लालगढ़ निवासी 44 वर्षीय जगदीश कुम्हार पुत्र राजाराम वर्मा नजदीकी एरिया में गर्भवती महिलाओं को लेकर भ्रूण लिंग जांच करवाता है। दलाल स्थानीय निजी हॉस्पिटलों में पीआरओ का काम करता है।
जैन ने बताया कि टीम ने डिकॉय कार्रवाई के लिए गर्भवती महिला के जरिए दलाल से संपर्क साधा। इस पर दलाल जगदीश ने 40 हजार रुपए भ्रूण लिंग जांच और लाने-ले जाने सहित पूरे पैकेज के 60 हजार रुपए की मांग की। इसके बाद रविवार सुबह 8 बजे मीरा चौक बुलाया और तय राशि ले ली। इसके बाद शहर में घुमाते हुए साधुवाली पहुंचा और बताया कि यहां आज डॉक्टर उपलब्ध नहीं है, इसलिए पंजाब के मोगा शहर में जांच करवाने की बात कही। इसके बाद कोटकपुरा शहर ले जाकर घुमाता रहा। वहां से मखू शहर में पहुंचा, जहां एक अन्य दलाल जगदीश राम पुत्र रणवीर सिंह निवासी घुंकावाली, जिला डबवाली मिला, जो उनके साथ मिल गया। 

मासूम का किडनैप कर हत्या, 40 लाख की मांगी फिरौती, दबोचे अपहरणकर्ता

अलवर। लड़ाई का बदला लेने के लिए और रूपयों के लालच में बदमाशों ने एक मासूम का पहले किडनैप कर लिया और बाद में बड़ी बेदर्दी से उसकी हत्या कर दी। मामला अलवर जिले के भिवाड़ी फूलबाग थाना इलाके का है। 
पुलिस के मुताबिक भिवाड़ी में चार दिन पहले नवीं क्लास में पढ़ने वाले यश जांगिड़ का कुछ बदमाशों ने किडनैप कर लिया। किडनैप करने के बाद बदमाशों ने उसके परिजनों से 40 लाख रूपये की फिरौती मांगी। पुलिस ने मामले की जांच करते हुए अपहरण करने वाले दो बदामशों को दबोच लिया। गिरफ्तार आरोपी साजिद और दीपक है। साजिद दिल्ली और दीपक भिवाड़ी का रहने वाला है। 
पुलिस की पूछताछ में सामने आया कि आरोपियों ने यश की हत्या कर दी है। आरोपियों की निशानदेही पर पुलिस को आज मासूम यश का शव धारूहेड़ा के पास एक नाले में मिला।  पूछताछ मेें आरोपियों ने बताया कि दीपक पहले से यश को जानता था। किसी बात को लेकर दोनों के बीच झगड़ा हो गया था। इसका बदला लेने के लिए दीपक ने साजिद के साथ मिलकर यश का 13 जनवरी को अपहरण कर लिया। बाद में आरोपियों ने परिजनों को फोन कर 40 लाख रूपये की फिरौती मांगी।  लेकिन पुलिस ने मुस्तैदी दिखाते हुए दोनों को दबोच लिया। लेकिन उससे पहले ही बदमाशों ने यश की हत्या कर उसके शव को छुपा दिया। पूछताछ में सामने आया है कि आरोपियों ने हत्या करने के बाद परिजनों से यह फिरौती मांगी। फिलहाल पुलिस दोनों आरोपियों से पूछताछ कर मामले की जांच में जुट गई है।

हिट एण्ड रन मामला : विधायक पुत्र के जांच के बदले गए नमूने, सवालों में प्रयोगशाला

जयपुर। राजस्थान विधि विज्ञान प्रयोगशाला पर एक बार फिर बड़ा सवाल खड़ा हो गया है। मामला राजधानी के बहुचर्चित बीएमडब्ल्यू हिट एण्ड रन मामले से जुड़ा है। एफएसएल वैज्ञानिक डॉ. विनोद जैन पर मामले में आरोपी रहे विधायक पुत्र सिद्धार्थ महरिया के जांच नमूने बदलने का संगीन आरोप लगा है । 
दरअसल 1 जुलाई 2016 की रात को विधायक पुत्र सिद्धार्थ महरिया ने अपनी तेज रफ्तार से दौड़ती बीएमडब्ल्यू कार से अशोक नगर थाना इलाके में एक ऑटो रिक्शा और एक पीसीआर वैन को टक्कर मार दी थी। इस घटना में तीन लोगों की मौत हो गई थी और पांच अन्य घायल हो गए थे। आरोपी सिद्धार्थ पर शराब के नशे में होने के आरोप लगे थे। पुलिस द्वारा आरोपी सिद्वार्थ महेरिया की ब्रेथ एनलाइजर जांच में एल्कोहल की मात्रा 152 मिलीग्राम पाई गई थी जबकि सामान्य रूप से कार चलाते समय एल्कोहल की मात्रा 30 मिलीग्राम से अधिक नहीं होनी चाहिए। 
मामले की जांच के लिए पुलिस और एफएसएल ने जांच के नमूने लिए थे। लेकिन एफएसएल द्वारा इन नमूनों को बदलने का आरोप लगा था। जांच के बाद शास्त्री नगर थानाधिकारी महावीर प्रसाद ने एफएसएल वैज्ञानिक डॉ. विनोद जैन के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। मामले में विनोद जैन पर साक्ष्यों में हेराफेरी करने के आरोप लगाए गए है। जांच के लिए यह मामला एसीपी शास्त्री नगर जगमोहन शर्मा को सौंपा गया है।

पेशी पर लाए गए हिस्ट्रीशीटर पर अंधाधुंध फायरिंग, एक को भी गोली

चूरू । कोर्ट परिसर में दिनदहाड़े एक हिस्ट्रीशीटर पर आज फायरिंग करने का सनसीखेज मामला सामने आया है। घटना राजस्थान के चूरू जिले के राजगढ़ कोर्ट की है। यहां पर हथियार से लैस अज्ञात बदमाशों ने एक हिस्ट्रशीटर पर पेशी के दौरान ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। इस फायरिंग में हिस्ट्रीशीटर गंभीर रूप से घायल हो गया। साथ ही इस अंधाधुंध फायरिंग में एक वकील भी घायल हो गया। 
जानकारी के मुताबिक हिस्ट्रीशीटर सुरेंद्र जैतपुरा को पेशी पर लाया गया था। इसी दौरान कुछ हथियार बंद बदमाश कोर्ट परिसर में आए और रिवॉल्वर से हिस्ट्रशीटर सुरेंद्र पुनिया पर अंधाधुंध फायरिंग कर दी। जैसे ही भारी भीड़ के बीच फायरिंग होने लगी तो कोर्ट में अफरा-तफरी मच गई और हडकंप मच गया। घटना में सुरेंद्र जैतपुरा गोली लगने से खून से लथपथ अचेत होकर गिर पडा। मौके पर मौजूद एक वकील रतन सिंह भी गोली लगने से घायल हो गया। 
सूचना मिलने पर जिला पुलिस अधीक्षक समेत पुलिस के आलाधिकारी मौके पर आए और मामले की जांच पड़ताल की। पुलिस ने कोर्ट में लगे सीसीटीवी कैमरे भी खंगाले। सीसीटीवी फुटेज में सामने आया कि दो हथियार हवा में लहराते हुए नजर आ रहे हैं। हमलावर खाकी की वर्दी में नजर आ रहे थे। 
आपको बता दें कि इससे पहले भी साल 2000 में इसी कोर्ट में सुमेर फागेड़िया की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। 
 

राजस्थान समेत तीन राज्यों में पहले ही लगा बैन


हरियाणा कैबिनेट ने लगाई फिल्म पर रोक
जयपुर टाइम्स
नई दिल्ली (एजेंसी)।
संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावत’ 25 जनवरी को हरियाणा में रिलीज नहीं होगी। मंगलवार को स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने बताया कि कैबिनेट मीटिंग में फिल्म पर रोक लगाने के फैसले को मंजूरी दी गई। फिल्म के विरोध में राजपूत करणी सेना ने राजस्थान के धौलपुर में रैली निकाली। राजस्थान, गुजरात और मध्य प्रदेश की सरकारें पहले ही रिलीज पर रोक लगा चुकी हैं। उत्तर प्रदेश और गोवा में पद्मावत दिखाए जाने पर स्थित अभी साफ नहीं है। दूसरी ओर, फिल्म मेकर्स ने रविवार को पद्मावत की ऑफिशियल रिलीज डेट का एलान किया था। बता दें कि पद्मावत पर पिछले काफी समय से विवाद हो रहा है। सेंसर बोर्ड इसे बिना किसी कट के रिलीज करने की बात कह चुका है। उधर, राजस्थान के धौलपुर में करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने फिल्म के विरोध में रैली निकाली। यहां राजपूत करणी सेना के प्रमुख लोकेंद्र सिंह कालवी ने पद्मावत की रिलीज को लेकर कहा, मैंने बार-बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राज्यों के मुख्यमंत्रियों से अनुरोध करता हूं कि हमारी भावनाओं को समझा जाए। हम फिल्म पर पूरे देश में बैन के सिवाय कुछ नहीं चाहते। पद्मावत के मेकर्स भंसाली प्रोडक्शन और वायाकॉम 18 मोशन पिक्चर्स ने बताया था कि फिल्म को दुनियाभर में एक साथ 3 डी में रिलीज किया जाएगा। यह तीन भाषाओं हिंदी, तमिल और तेलुगु में रिलीज की जाएगी। क्या होगा नुकसान : हरियाणा, मध्य प्रदेश, गुजरात और राजस्थान बड़े राज्य हैं। यहां पर फिल्म के रिलीज न होने का सीधा असर फिल्म के कलेक्शन पर पड़ेगा।