Updated -

चिकित्सा शिविर में हुई 86 रोगियों की जांच

सिरोही। राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत आबूरोड के वार्ड नंबर 3, मानपुरा शहर स्थित राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय में आउटरीच चिकित्सा शिविर आयोजित किया गया। शिविर में कुल 86 मरीजों का उपचार किया गया और कुल 48 जांचे ली गई.  इसमें मधुमेह रोग की 24 और  हिमोग्लोबिन की 20 जांचे की गई, जिसमें 08 मरीज मधुमेह, 05 मरीज हाईपर टेंशन के, दांत सम्बन्धी 02 और 03 मरीज त्वचा सम्बन्धी बीमारियों के पाए गए। इसी प्रकार 02 मरीजों की मलेरिया स्लाइड्स ली गई और 02 जांचे टी.बी. की ली गई. शिविर में 01 मरीज को उच्च चिकित्सा संस्थान पर ईलाज हेतु रैफर किया गया।

शिविर में आने वाले मरीजो को 104 व 108 एम्बुलेंस, मौसमी बीमारियों से बचाव, भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना, राजश्री योजना, गर्भवती महिलाओं की जांच एवं बच्चों में टीकाकरण करवाने के महत्व के बारे में जानकारी दी गई और विभिन्न विभागीय कार्यक्रमों से संबंधित आईईसी प्रदर्शित की गई, जिससे आमजन जागरूक होकर योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ उठा सके।  शिविर में चिकित्सा अधिकारी डॉ. विक्रांत सक्सेना, मेल नर्स-2 राजेश, ए.एन.एम. प्रतीक्षा, ए.एन.एम. देवी बेन, लैब टेक्नीशियन जेराल्ड स्टिफन, एस.टी.एल.एस. निर्मल्य कुमार बनर्जी, एस.टी.एस. बलवीर सिंह, आशा सहयोगिनी कौशल्या और आंगनवाडी कार्यकर्ता डिम्पल ने अपनी सेवाएँ दी. इस मौके पर राष्ट्रीय शहरी स्वास्थ्य मिशन के अर्बन हैल्थ कंसल्टेंट सियाराम पूनिया और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के जिला आई.ई.सी. समन्वयक उपस्थित रहे। 
 

कलाकारों ने दी रंगारंग प्रस्तुतिया, दर्शक हुए भाव विभोर

सिरोही। ब्रह्मांकुमारीज संस्था के शांतिवन में समाजसेवियों के सम्मेलन के समापन की रात्रि सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया गया। जिसके देर रात तक स्थानीय तथा देश के कई हिस्सों से आये नन्हें कलाकारों ने अपनी प्रस्तुतियों से लोगों को भाव विभोर कर दिया। भांगड़ा से लेकर क्लासिकल और कथ्थक नृत्य ने एक से बढक़र एक प्रस्तुतियां दी। देर रात हुए इस कार्यक्रम में डायमंड हॉल सभागार में देर रात तक लोगों की तालियों से हॉल गूंजता रहा। 

समाज सेवा के सही मायने और मूल्यनिष्ठ जीवन पर नृत्य नाटिका ने लोगों को सोचने पर मजबूर कर दिया। नन्हें बाल कलाकारों की प्रस्तुतियों में लोग डूब गये। साथ ही आला अधिकारी भी दशेन में झूमते दिखे। मुख्यत: पंजाब, उड़ीसा, बिहार, महाराष्ट्र तथा गोवा के आये नहें कलाकारों ने अपनी कलाओं से समा बांध दिया।

डेयरी एवं वर्मी कम्पोस्ट का प्रशिक्षण आयोजित

अजमेर। बड़ौदा स्वरोजगार विकास संस्थान ( आरसेटी) के द्वारा 10 दिवसीय डेयरी एवं वर्मी कम्पोस्ट निर्माण का प्रशिक्षण आयोजित किया गया। बड़ौदा स्वरोजगार संस्थान की निदेशक श्रीमती सीमा खन्ना ने बताया कि 10 दिवसीय डेयरी एवं वर्मी कम्पोस्ट मैंकिग प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया। प्रशिक्षण में पुष्कर, घूघरा,किशनगढ़, रलावता, खूटिया, जालिया, लोडियाना, बिजयनगर के 27 पशुपालको को सफलतापूर्वक प्रशिक्षित किया गया।

उन्होंने बताया कि प्रशिक्षण कार्यक्रम का समापन समारोह आरसेटी में जिला अग्रणी प्रबंधक श्री आर.सी.टेलर, बैंक ऑफ बड़ौदा अजमेर ,के मुख्य अतिथ्य में हुआ। मुख्य अतिथी द्वारा अपने उद्बोधन में प्रशिक्षणार्थियों को कहा कि सफल उद्यमी बनें तथा बैंक की ऋण योजनाओं की जानकारी प्रदान की। अच्छे उद्यमी जो स्वरोजगार करने हेतु बैंक से ऋण लेता है और कार्य के द्वारा आय अर्जित कर बैंक को समय पर ऋण की किश्त अदा करता है। इस प्रकार की उद्यमियों को बैक सदैव सहयोग प्रदान करता है। सफल प्रशिक्षणार्थियों को प्रमाण पत्र प्रदान किये गए। तत्पश्चात् संस्थान में संस्थान फैकल्टी रामराज धाकड़ द्वारा आभार प्रकट किया। इस दौरान एफ.एल.सी.सी. श्री एम.एम.शर्मा, बैंक ऑफ बड़ौदा एवं समस्त स्टाफ उपस्थित रहे।

हमारी आनासागर झील होगी सबसे सुन्दर: राजस्थान झील संरक्षण एवं विकास प्राधिकरण ने जारी किए दिशा-निर्देश

मलबा, अतिक्रमण, पानी को दूषित करने तथा झील को नुकसान पहुंचाने वाली गतिविधियों पर होगी कार्यवाही
झील में हो सकेगी बोटिंग, एडवेंचर वाटर गेम, फिश्ंिाग, बर्ड सेंच्यूरी आदि गतिविधियां
झील के बाहर फिशिंग, बर्ड वाचिंग, हाईकिंग, घुडसवारी सहित अन्य गतिविधियां भी की जा सकेंगी संचालित
अजमेर।  
अजमेर शहर की शान ऐतिहासिक आनासागर झील के संरक्षण और विकास सहित सौंदर्यीकरण के लिए राज्य सरकार ने ठोस कदम उठाए हैं। अब झील में मलबा डालने, अतिक्रमण करने, पानी को दूषित कर झील को नुकसान पहुंचाने वाली गतिविधियां पूर्णत: प्रतिबंधित रहेंगी। ऐसा करने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही अमल में लायी जाएगी। झील को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने तथा तय मानकों के अनुसार विकास करने के लिए यहां बोटिंग, एडवेंचर वाटर गेम, बर्ड सेंच्यूरी आदि गतिविधियां संचालित की जा सकेंगी।

जिला कलक्टर श्री गौरव गोयल ने बताया कि आनासागर झील के संरक्षण और विकास के लिए राजस्थान झील संरक्षण एवं विकास प्राधिकरण ने विस्तृत दिशा- निर्देश जारी किए हैं। इन निर्देशों की पालना सुनिश्चित कर झील को और अधिक सुन्दर व पर्यटन की दृष्टि से विकसित किया जाएगा। इस संबंध में सभी संबंधित विभागों को निर्देशित किया जा रहा है।

गोयल ने जानकारी दी कि अब राजस्व ग्राम थोक तैलियान एवं कोटड़ा में फैली झील एवं इसके संरक्षित क्षेत्र में झील संरक्षण कार्यों को छोड़कर किसी तरह का निर्माण हटाना, खुदाई, अतिक्रमण, झील में मिट्टी की गे्रडिंग या डिग्रेडिंग, यहां खनिज उत्खनन से संबंधित किसी भी तरह की कार्यवाही पर प्रतिबंध रहेगा। यहां मलबा डालना, अन्य किसी तरह की तरल या धातु डालना भी प्रतिबंधित कर दिया गया है। इसी तरह झील के बहाव क्षेत्र, पानी के आवक के रास्तों, पानी बाहर जाने के मार्ग, स्टोरेज एरिया एवं सुरक्षा के साथ किसी भी तरह की छेड़छाड़़ नहीं की जा सकेगी। झील में प्लांटिंग और हार्वेस्टिंग, जानबूझकर कर वस्तुओं को जलाना, पानी के तापमान में बदलाव के लिए शारीरिक, केमिकल या बॉयोलोजिकल छेड़छाड़ नहीं की जा सकेगी। प्राधिकरण ने सीवरेज को भी झील में बहाने पर रोक लगा दी है।

उन्होंने बताया कि झील को पर्यटन की दृष्टि से विकसित करने के लिए भराव क्षेत्र तथा बाहर विविध गतिविधियां संचालित की जाएंगी। उन्होंने कहा कि झील में प्राधिकरण की अनुमति से पर्यटन के लिए बोटिंग, एडवेंचर वाटर गेम, फिशिंग, बर्ड सेंच्यूरी, बर्ड वाचिंग, हाईकिंग, बोटिंग, झील के किनारे घुडसवारी, स्वीमिंग, केनोइंग एवं साईकलिंग आदि हो सकेंगे।

गोयल ने बताया कि झील के किनारे ईको टयूरिज्म का विकास, मिट्टी की गुणवत्ता की जांच, वेट लेंड, परकोलेशन, वेजीटेशन, फ्लोरा एण्ड फोना से संबंधित कार्यवाही भी की जाएगी। झील के पानी का पेयजल, सिंचाई एवं अन्य कार्यों में उपयोग हो सकेगा। झील के किनारे सैर के लिए भी चौपाटी का निर्माण करवाया जा रहा है। झील की चारदीवारी चिन्हीकरण के साथ झील की सरुक्षा, मरम्मत एवं सरंक्षण के कार्य करवाए जा सकेंगे।

पुष्कर पशु मेला 2017: संसदीय सचिव ने विकास प्रदर्शनी का किया शुभारम्भ

अजमेर। अन्तर्राष्ट्रीय पुष्कर मेले में सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग सहित विभिन्न राजकीय विभागों एवं स्वयं सेवी संगठनों द्वारा लगायी गई विकास प्रदर्शनी का शुभारम्भ मंगलवार को संसदीय सचिव एवं पुष्कर विधायक श्री सुरेश सिंह रावत ने किया। इस मौके पर पुष्कर नगर पालिका के अध्यक्ष श्री कमल पाठक एवं मण्डल रेल प्रबंधक श्री पुनीत चावला भी उपस्थित थे।    

सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग की प्रदर्शनी में वर्तमान शासन के 4 वर्ष के दौरान हुए विभिन्न विकास कार्यों एवं कार्यक्रमों के लगभग एक सौ छाया चित्रों के माध्यम से प्रदर्शन किया गया। साथ ही मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा द्वारा अजमेर यात्रा के चित्रों को भी स्थान दिया गया है। विभाग के उप निदेशक श्री महेश चन्द्र शर्मा ने संसदीय सचिव को विभिन्न छाया चित्रों के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। इससे पूर्व दीप प्रज्जवलन कर प्रदर्शनी का शुभारम्भ किया गया।

मेला मैदान के सामने आयोजित इस विकास प्रदर्शनी में पशु पालन विभाग, राष्ट्रीय ऊष्ट्र अनुसंधान बीकानेर, जिला परिषद, डाक विभाग, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग,स्वयं सहायता समूह-नाबार्ड, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, कृषि विभाग, दीनदयाल अन्त्योदय योजना राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन, हिन्दुस्तान पेट्रोलियम, बड़ौदा स्वरोजगार विकास संस्थान एवं रेलवे द्वारा विकास कार्यो का प्रदर्शन किया गया है। प्रदर्शनी में गैर सरकारी संगठनों द्वारा समाज को नई दिशा देने का प्रयास किया गया। इसी प्रकार ज्योर्तिमय सेवा संस्थान, आध्यात्म विज्ञान सत्संग केन्द्र, विश्व मित्र जन सेवा समिति, मीनू स्कूल एवं चाईल्ड लाइन, प्रजापिता ब्रह्म कुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय एवं चाईल्ड लाईन द्वारा भी प्रदर्शनी लगायी गई।

इस मौके पर मेला अधिकारी डॉ. श्याम सुन्दर चन्दावत, विकास प्रदर्शनी प्रभारी डॉ. सुधाकर सैनी सहित अनेक जनप्रतिनिधि, प्रशासनिक अधिकारी एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। यह प्रदर्शनी आगामी 4 नवम्बर तक चलेगी।