Updated -

mobile_app
liveTv

सहारनपुर में मुठभेड़ : 50 हजार का इनामी बदमाश ढेर, दो पुलिसकर्मी घायल

सहारनपुर। सहारनपुर के साथ ही पास के जिलों तथा उत्तराखंड में व्यापारियों के लिए सिरदर्द बन चुके बड़े बदमाश को आज मुठभेड़ में पुलिस ने मार गिराया। 50 हजार का इनामी अपने साथी के साथ मुठभेड़ में मारा गया। दोनों बदमाश शामली के लोहारी जलालाबाद व जलालाबाद के रहने वाले हैं। दोनों बदमाश 50-50 हजार के इनामी बताए जा रहे हैं।

सहारनपुर में पुलिस ने आज तड़के एक मुठभेड़ में 50 हजार के इनामी ओमपाल और उसके साथी को ढेर कर दिया। बदमाशों की तरफ से की गई फायरिंग में एक दारोगा के साथ सिपाही भी घायल हो गए। इनको जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। दोनों बदमाशों ने कल रात सुराणा से एक ग्रामीण का अपहरण कर फिरौती मांगी थी। 

अपहरण की सूचना पर सर्विलांस टीम के साथ ही थाना सरसावा की पुलिस टीम ने इलाके में कॉम्बिंग की थी। इस दौरान खेत में छुपे बदमाशों ने पुलिस टीम पर फायरिंग कर दी। पुलिस की टीम इन दोनों पर भारी पड़ी। दोनों बदमाशों को मुठभेड़ में मार गिराया। बदमाश ओमपाल की पहचान उसके पास मिले आधार कार्ड से हुई।

उसके साथ मारा गया दूसरा बदमाश संभवत: विक्की है। पुलिस उसकी भी पहचान कराने के प्रयास में लगी है।शनिवार की रात करीब 2:15 बजे गांव सराणा निवासी नरेश गुर्जर ने थाना सरसावा पुलिस को फोन कर भाई के अपहरण व फिरौती मांगे जाने की सूचना दी थी। 

पुलिस ने फिरौती मांगी जाने वाले फोन की लोकेशन की जांच के लिए सर्विलांस टीम को जानकारी दी उसके बाद थाना सरसावा व सर्विलांस टीम ने संयुक्त रूप से कांबिंग की और रेलवे फाटक के पार मीरपुर कलरी के रास्ते पर एक बाइक देखी तो पुलिस ने जंगल को घेर लिया।

रविवार तड़के करीब 4 बजे बदमाशों ने पुलिस को देख फायरिंग शुरू कर दी, जिसमें दरोगा दुष्यंत सिंह व सिपाही रजनीश गोली लगने से घायल हो गए। इस पर पुलिस ने जवाबी फायरिंग की, तो दोनों बदमाशों को गोली लगी। पुलिस दोनों बदमाशों को जिला अस्पताल भेजा मगर रास्ते में ही उनकी मौत हो गई। कप्तान भी मौके पर पहुंचे।

रेवाड़ी दुष्कर्म केस : पीड़िता की मां ने लौटाया 2 लाख का चेक, कहा -पैसा नहीं इंसाफ चाहिए

रेवाड़ी, हरियाणा। सीबीएसई टॉपर के साथ रेवाड़ी में हुए सामूहिक दुष्कर्म के मामले में अभी तक तीन मुख्य आरोपितों में से पुलिस किसी को पकड़ नहीं पाई है। इस बीच एसआईटी द्वारा एक शख्स को कस्टडी में लेने की खबर सामने आ रही है।सामूहिक दुष्कर्म का शिकार हुई पीड़िता की मां आरोपितों के अबतक नहीं पकड़े जाने से नाराज हैं। पीड़िता की मां ने सहायता राशि का दो लाख रुपए का चेक भी लौटा दिया है। शनिवार को नारनौल के चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट विवेक यादव दो लाख की अंतिरम राहत राशि का चेक लेकर पीड़िता की मां के पास पहुंचे थे। चेक लौटाते हुए पीड़िता की मां ने कहा कि, मुझे दो लाख का चेक नहीं, बेटी के लिए इंसाफ चाहिए। मेरी बेटी की आबरू की कीमत लगाई जा रही है। वहीं उन्होंने बेटी को सही इलाज नहीं मिलने का भी आरोप लगाया। पीड़ित लड़की की मां ने कहा कि, डॉक्चर बेटी के डिप्रेशन में जाने की बात कहकर मुझसे मिलने नहीं दे रहे हैं। उन्होंने बेटी को एम्स या मेदांता मेडिसिटी में रेफर करने की भी मांग की। पीड़िता की मां ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए कि जब वो महिला थाने में एफआईआर दर्ज कराने पहुंचे थे तो पुलिस ने उन्हें धमकाया था और उनकी शिकायती आवेदन फेंक दिया था।

कोविंद और मोदी ने दी देशवासियों को गणेश चतुर्थी की शुभकामनाएं

हलाला-बहुविवाह के खिलाफ आवाज उठाने वाली शबनम रानी पर एसिड अटैक

बुलंदशहर। निकाह हलाला और बहुविवाह के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट तक लड़ाई लड़ने वाली शबनम रानी पर एसिड अटैक हुआ है। यूपी के बुलंदशहर में हुए इस हमले के बाद उनकी हालत गंभीर बनी हुई है। जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है। जानकारी के मुताबिक, शबनम रानी पर मोटरसाइकिल पर सवार दो युवकों ने तेजाब फेंका। मई 2018 में शबनम रानी ने मुस्लिम समुदाय में बहुविवाह और निकाह हलाला प्रथा को असंवैधानिक घोषित करने की मांग करते हुए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, जस्टिस एएम खानविलकर और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने केंद्र एवं अन्य से जवाब मांगा था। शबनम के पति ने दूसरी शादी कर ली और उसके बाद उन्हें व उनके तीन छोटे बच्चों को उनके पिता के घर भेज दिया था।

भगोड़े विजय माल्या को था गांधी परिवार का आशीर्वाद : भाजपा

नई दिल्ली। भाजपा ने विजय माल्या के मामले में सीधे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधा है। इसके लिए भाजपा ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में भाजपा ने राहुल गांधी पर आरोप लगाए कि, उन्होंने कालेधन का इस्तेमाल किया है, वहीं उनके हवाला कारोबारियों से भी रिश्ते रहे हैं।

वहीं देश छोड़ने से पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली से मुलाकात करने के विजय माल्या के बयान पर भाजपा को घेरने वाली कांग्रेस पर पार्टी ने सीधा हमला किया। प्रेस कॉन्फ्रेंस में संबित पात्रा ने कहा कि, "भगोड़े विजय माल्या को गांधी परिवार का आशीर्वाद था। वहीं नेशनल हेराल्ड मामले में भी भाजपा ने राहुल गांधी पर गंभीर आरोप लगाए। भाजपा ने कहा कि, राहुल गांधी ने पांच हजार करोड़ का गबन किया है।"राहुल गांधी ने फर्जी कंपनी से लोन लेकर एक कंपनी खोली। इसके जरिए राहुल ने एक करोड़ का लोन भी लिया। भगोड़े विजय माल्या के मामले में भाजपा ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को जमकर कोसा। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि, "किंगफिशर मामले में राहुल गांधी बैकफुट पर है। ऐसा लगता है कि किंगफिशर का मालिक गाधी परिवार है।" गांधी परिवार किंगफिशर एयरलाइंस से फ्री में सफर करता था। कई बार उनकी यात्रा बिजनेस क्लास में अपग्रेड कर दी जाती थी।

माल्या-जेटली मुलाकात पर राहुल का पलटवार, कहा- वित्त मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए

नई दिल्ली। विजय माल्या के मुद्दे पर भाजपा द्वारा लगाए गए गंभीर आरोपों के बाद राहुल गांधी ने भी एक प्रेस क़ॉन्फ्रेंस की। राहुल गांधी ने दावा किया कि भारत से भागने से पहले कारोबारी विजय माल्या और अरुण जेटली की संसद में मुलाकात हुई थी। इसके लिए उन्होंने कांग्रेस नेता पीएल पुनिया का हवाला किया। उन्होंने कहा कि, "पीएल पुनिया ने दोनों को संसद में मिलते देखा था।"

खुद पीएल पुनिया ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसका जिक्र किया। उन्होंने कहा कि, "मैंने दोनों को संसद में मिलते देखा था। सेंट्रल हॉल में ही बैठकर दोनों के बीच लंबी बात हुई थी। पीएल पुनिया ने अरुण जेटली पर आरोप लगाया कि वो ढाई साल तक इस मामले में क्यों चुप रहे। उन्होंने कहा कि, जेटली ने ढाई साल तक रहस्य बनाकर रखा। एक मार्च 2016 का अगर सीसीटीवी फुटेज देखा जाए तो इस मुलाकात की हकीकत सबके सामने आ जाएगी।" राहुल गांधी ने वित्त मंत्री अरुण जेटली पर तंज कसते हुए कहा कि, "विजय माल्या ने कल कहा था कि भारत छोड़ने से पहले उनकी संसद में अरुण जेटली से मुलाकात हुई थी। अरुण जेटली हर मुलाकात पर ब्लॉग लिखते हैं, लेकिन इस मुलाकात पर कोई ब्लॉग क्यों नहीं लिखा। वित्त मंत्री ने इस मामले में झूठ बोल रहे हैं।" राहुल गांधी ने वित्त मंत्री अरुण जेटली पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि, "वित्त मंत्री ने एक भगोड़े से बात की। उस भगोड़े ने उन्हें बताया कि वो लंदन जा रहा है। ये बात वित्त मंत्री ने ईडी, पुलिस, सीबीआई को क्यों नहीं बताई ?अरेस्ट नोटिस को बदला गया। ये वही कर सकता है, जिसका सीबीआई पर नियंत्रण हो।" राहुल गांधी ने वित्त मंत्री पर आरोप लगाया कि उन्होंने भारत के भगोड़े से बात की। राहुल गांधी ने कहा कि, "वित्त मंत्री ने ये बात ईडी, पुलिस और सीबीआई से क्यों छुपाई। जेटली बताएं कि क्या उन्हें ऊपर से किसी का ऑर्डर मिला था। इस मुद्दे पर देश से झूठ बोलने के लिए राहुल गांधी ने अरुण जेटली से इस्तीफे की भी मांग की।" उन्होंने कहा कि सरकार राफेल पर झूठ बोल रही है, सरकार विजय माल्या पर झूठ बोल रही है। उसे देश से भागने के लिए वित्त मंत्री ने आसान रास्ता दिया।

स्मृति ईरानी ने साधा राहुल-सोनिया पर निशाना, कहा- बैंकों के एनपीए के पीछे यूपीए सरकार

नई दिल्ली। केंद्र की मोदी सरकार और कांग्रेस के बीच डीजल-पेट्रोल को लेकर चल रही रस्सीकशी अब बैंकों के एनपीए पर आकर टिक गई है। रिजर्व बैंक के पूर्व गर्वनर रघुराम राजन ने एनपीए को लेकर संसदीय समिति को जो जवाब दिया है, उसने केंद्र सरकार को कांग्रेस पर हमला करने का मौका दे दिया है। दरअसल रघुराम राजन ने खुलासा किया है कि बैंकों के एनपीए के लिए बैंकर्स, आर्थिक मंदी के अलावा फैसले लेने में तत्कालीन सरकार की तरफ से की गई लेटलतीफी सबसे बड़ी वजह है। आरबीआई के पूर्व गर्वनर ने कहा कि, बैंकों के एनपीए में जो इजाफा हुआ, उसके लिए पूर्व की यूपीए सरकार में हुए घोटाले भी एक बड़ी वजह है। रघुराम राजन ने संसदीय समिति को दिए जवाब में कहा कि सबसे ज्यादा एनपीए यूपीए सरकार के कार्यकाल 2006-2008 के बीच रहा। आपको बता दें, हाल ही में नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने बैंकों में NPA को लेकर रघुराम राजन की नीतियों को जिम्मेदार बताया था। रघुराम राजन के इस बयान पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने पूर्व की यूपीए सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि, यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी की अगुअाई वाली सरकार ने बैंकिंग सिस्टम के आधार पर हमला किया। खुद रघुराम राजन ने कहा कि, 2006-2008 के बीच, यूपीए सरकार के काम करने के तरीकों की वजह से भारतीय बैंकिंग सिस्टम में एनपीए बढ़ा। केंद्रीय मंत्री यहीं नहीं रुकी, उन्होंने आगे कहा कि, कांग्रेस का पर्दाफाश हो गया है। रघुराम राजन के बयान से ये साबित हो गया कि बैंकों के एनपीए बढ़ने के पीछे कांग्रेस का हाथ है। स्मृति ईराना ने आरोप लगाए कि, राहुल गांधी, प्रियंका वाड्रा और सोनिया गाँधी भारतीय करदाताओं के पैसे को हड़पना चाह रहे थे। वहीं मेहुल चोकसी को लेकर जब उनसे सवाल पूछा गया तो स्मृति ईऱानी ने सीधे-सीधे कहने से कुछ भी इंनकार कर दिया और गेंद जांच एजेंसियों के पाले में डाल दी। उन्होंने कहा कि, मेहुल चोकसी का सवाल आपको जांच एजेंसियों से पूछना चाहिए। एक कैबिनेट मंत्री के तौर पर में मुझे ऐसे आरोपों का जवाब नहीं देना है।

आंगनबाड़ी में बच्चे के जिंदा होने की कहानी सुन पीएम भी रह गए हैरान

नई दिल्ली। नमो ऐप के माध्यमं से सरकारी योजनाओं के लाभार्थियों से बात करने की कड़ी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, एएनएम, आशा कार्यकर्ताओं और मुख्य सेविकाओं से बात की। इस दौरान झारखंड की एक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ने बच्चे को जिंदा करने की कहानी सुनाई जिसे सुनकर प्रधानमंत्री भी हैरान रह गए। बातचीत के दौरान प्रधानमंत्री ने इन महिला कार्यकर्ताओं की जमकर तारीफ की और कहा कि इस देश का प्रधानमंत्री कह सकता है कि उसके लाख हाथ हैं और ये आप सब हैं। पीएम मोदी ने कहा 'सरकार का ध्यान पोषण और गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराने पर है। टीकाकरण की प्रक्रिया तेज गति से चल रही है। इससे महिलाओं और बच्चों को खासी मदद मिलेगी। अब तक 3 करोड़ से ज्यादा बच्चों और 85 लाख से ज्यादा महिलाओं का टीकाकरण कराया गया है।' मोदी ने आगे कहा कि पूर्वी देश की महिलाओं को इस बात की जानकारी है कि किस तरह इंसेफेलाइटिस की बीमारी बढ़ रही है। हमारी सरकार ने इससे निपटने के लिए कई मिशन शुरू किए हैं। मोदी ने ये भी कहा 'देश की हर मां पर बच्चों को मजबूत करने का जिम्मा है। पोषण यानी खानपान, टीकाकरण, स्वच्छता। पहले भी इसके बारे में लोग जानते थे लेकिन तब ऐसी कोई योजना नहीं थी। इन तमाम बातों में पहले बहुत अधिक सफलता नहीं मिली। बहुत कम संसाधनों वाले देश भी इस मामले में हम से आगे निकल गए हैं। 

इस दौरान झारखंड के सरायकेला के उर्माल की रहनेवाली आंगनबाड़ी कार्यकर्ता मनीता देवी ने एक घटना की जानकारी पीएम मोदी को दी। मनीता ने बताया कि उर्माल में एक बार नवजात शिशु को परिवारवालों ने मृत मान लिया था। जब मनीता ने जिद कर बच्चा अपने हाथ में लिया तो उसकी धड़कनें चल रही थी। तब मनीता ने तुरंत एक पाइप के जरिए बच्चे के नाक और मुंह से पानी निकाला और इसके तुरंत बाद बच्चा रोने लगा।

मनीता ने बच्चे की मां मनीषा को उसे अपना दूध पिलाने को कहा। मनीषा और उसके बच्चे को अस्पताल ले जाया गया। मोदी ने आगे कहा कि मिशन इंद्रधनुष से देश में टीकाकरण को दूर-दराज इलाकों में भी बल मिला है वाकई आपने जीवन बचाने का कार्य किया है। मैं देश के उन हजारों-लाखों डॉक्टरों का भी आभार व्यक्त करना चाहूंगा, जो बिना कोई फीस लिए, गर्भवती महिलाओं की जांच कर रहे हैं।

तेलंगाना में भीषण सड़क हादसे में 45 की मौत, 6 बच्चे भी शामिल

हैदराबाद। तेलंगाना में मंगलवार को एक भीषण सड़क हादसा हो गया है जिसमें 45 लोगों की मौत हुई है जबकि अन्य घायल है। दुर्घटना राज्य के के कोंडागट्टू में हुई है। यहां आरटीसी की एक यात्री बस अनियंत्रित होकर खाई में गिर गई।

हादसे में बस पिचक गई और इसमें सवार 10 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई जबकि 35 अन्य ने अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। मरने वालों में 6 बच्चे भी बताए जा रहे हैं। हादसे के बाद राज्यक कार्यवाहक मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने मृतकों के परिजनों को 5 लाख रुपए का मुआवजा देने की घोषणा की है। 

दुर्घटना की सूचना मिलने के बाद पुलिस के अलावा राहत और बचाव दल मौके पर पहुंचा और सभी घायलों को खाई से निकालकर पास के अस्पतालों में भर्ती करवाया गया है। हादसे में मरने वालों में ज्यादातर महिलाएं हैं वहीं घायलों में कई की हालत गंभीर है।

वहीं राज्य के कार्यवाहक मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने घटना पर शोक जताया है। उन्होंने पीड़ित परिवारों के प्रति शोक जाहिर किया है।

मुरैना में रेत माफिया द्वारा ट्रैक्टर से कुचलकर डिप्टी रेंजर की हत्या

मुरैना। मुरैना में एक बार रेत माफिया ने पुलिस को चुनौती दी है। अवैध उत्खनन कर रेत ले जा रहे एक ट्रैक्टर रोकने की कोशिश कर रहे डिप्टी रेंजर को ट्रैक्टर चालक ने कुचल दिया। डिप्टी रेंजर की मौत हो गई।

मिली जानकारी के मुताबिक घटना एबी रोड के धौलपुर रोड पर वंजारी नाके की है। मुरैना वन मंडल में पदस्थ सूबेदार सिंह कुशवाहा (58) अपने 4 साथियों के साथ यहां ड्यूटी कर रहे थे। इसी दौरान उन्हें रेत ले जा रहे ट्रैक्टर दिखे। ट्रैक्टरों के आगे चल रहे दो बाइक सवार नाके पर रूके और उन्होंने यहां रखी लोहे की कांटा प्लेट को पलटने का प्रयास किया। उन्हें रोकने के लिए जब डिप्टी रेंजर कुशवाह अपने साथी रामनाथ शर्मा के साथ उनकी ओर बढ़े तो रेत माफिया ने ट्रैक्टर की स्पीड बढ़ा दी और डिप्टी रेंजर को अपनी चपेट में ले लिया। डिप्टी रेंजर का सिर ट्रैक्टर से टकराया और वे काफी दूर तक ट्रैक्टर के साथ घिसटते चले गए। डिप्टी रेंजर को रौंदने के बाद चालक ट्रैक्टर लेकर फरार हो गया। घटनास्थल पर उनके खून के छींटे काफी दूर तक बिखरे। साथी कर्मी उन्हें तुरंत अस्पताल लेकर पहुंचे लेकिन तब तक उन्होंने दम तोड़ दिया। मुरैना एसपी अमित सांघी ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि पुलिस ने ट्रैक्टर चालक के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। इधर घटना की जानकारी भिंड में उनके परिवार वालों को दे दी गई। ये पूरी घटना नाके पर लगे सीसीटीवी कैमरे में भी कैद हुई। पुलिस इन तस्वीरों को खंगाल रही है।

पाक सेना प्रमुख ने फिर उगला जहर, फिर छेड़ा कश्मीर राग

नई दिल्‍ली। पाकिस्तान भले ही एक तरफ भारत के साथ शांति वार्ता की बात कहता हो लेकिन दूसरी तरफ उसका असली चेहरा गाहे-बगाहे सामने आता रहता है। इस बार भी ऐसा ही हुआ जब पाक सेना प्रमुख ने पाकिस्तान रक्षा और शहीद दिवस पर भारत के खिलाफ जहर उगला। उन्होंने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए धमकी देते हुए कहा कि वो खूनी बदला लेंगे।

पाकिस्तान के सेनाध्यक्ष जनरल कमर जावेद बाजवा ने रावलपिंडी के जनरल मुख्यालय में रक्षा और शहीद दिवस के संबंध में मुख्य समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि आज पाकिस्तान के शहीदों के एकजुट होने का दिन है और सभी अपनी सरजमीं की रक्षा के लिए एकजुट हैं। 6 सितंबर हमारे देश के इतिहास में बहुत महत्वपूर्ण दिन है और हमने 1965 और 1971 के युद्ध से बहुत कुछ सीखा है। जनरल बाजवा ने आतंकवाद के इस खतरे से सामूहिक रूप से लड़ने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि प्रबुद्ध राष्ट्र अपने शहीदों को नहीं भूलते हैं। रावलपिंडी में बाजवा ने कश्मीर राग भी आलापा और कहा कि वह कश्मीर के लोगों को सलाम करते हैं जो वहां(भारत) खड़े हैं और बहादुरी से लड़ रहे हैं। वहीं पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का कहना है कि वह जंग नहीं चाहते हैं और उनकी सरकार का मकसद सिर्फ पाकिस्‍तान का विकास है। हालांकि यह पहला मौका नहीं है, जब बाजवा ने कश्‍मीर को लेकर ऐसा विवादित बयान दिया है। इससे पहले भी वह भारत के खिलाफ इस तरह जहर उगल चुके हैं।