Updated -

mobile_app
liveTv

17 नवंबर को सबरीमाला मंदिर में करूंगी प्रवेश, तृप्ति देसाई का एला

सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर चल रहे विवाद पर महिला कार्यकर्ता तृप्ति देसाई ने एलान किया है कि वह 17 नवंबर को मंदिर में प्रवेश के लिए जाएंगी। इसके लिए उन्होंने केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन को चिट्ठी लिखकर सुरक्षा की मांग भी की है। तृप्ति ने एलान किया है कि वह 17 नवंबर से शुरू हो रहे वार्षिक मंडल मकरविल्लक्कु में मंदिर में प्रवेश करेंगी। तृप्ति देसाई ने कहा कि उन्हें मंदिर में प्रवेश को लेकर धमकियां मिल रही हैं। इसके चलते उन्होंने सीएम पिनराई विजयन से सुरक्षा की मांग की है। वहीं मुख्यमंत्री विजयन ने गुरुवार को सर्वदलीय बैठक बुलाई है। बता दें कि तृप्ति देसाई भूमाता ब्रिगेड की संस्थापक भी हैं। इस ब्रिगेड के माध्यम से ही वह महिलाओं के हक की लड़ाई लड़ रही हैं।    


बता दें कि इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने केरल के सबरीमाला मंदिर में सभी उम्र की महिलाओं को प्रवेश की अनुमति देने वाले अपने आदेश पर फिलहाल रोक लगाने से इंकार कर दिया है। हालांकि शीर्ष अदालत अपने 28 सितंबर को दिए आदेश पर पुनर्विचार करने के लिए तैयार हो गई है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने मंगलवार को कहा कि पुनर्विचार के लिए दाखिल 49 याचिकाओं पर 22 जनवरी को खुली अदालत में सुनवाई होगी।

चीफ जस्टिस के अलावा जस्टिस रोहिंग्टन फली नरीमन, जस्टिस एएम खानविलकर, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस इंदु मल्होत्रा की मौजूदगी वाली पांच सदस्यीय पीठ ने इन याचिकाओं पर चेंबर में सुनवाई की। इसके बाद पीठ ने आदेश दिया कि शीर्ष अदालत की उपयुक्त पीठ इन याचिकाओं और सबरीमाला से जुड़े अन्य लंबित मामलों पर 22 जनवरी को ओपन कोर्ट में सुनवाई करेगी। इससे पहले 9 अक्तूबर को पुनर्विचार याचिका पर तत्काल सुनवाई की मांग को शीर्ष अदालत ने खारिज कर दिया था।

बता दें कि 28 सितंबर को तत्कालीन चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता में सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने भगवान अयप्पा के सबरीमाला मंदिर के कपाट सभी आयु वर्ग की महिलाओं के लिए खोलने का आदेश दिया था। संविधान पीठ ने मंदिर में 10 से 50 साल तक की महिलाओं के प्रवेश पर पाबंदी की सदियों पुरानी प्रथा को असंवैधानिक व भेदभावपूर्ण बताया था। हालांकि इस निर्णय के बावजूद भगवान अयप्पा के भक्तों ने हिंसक आंदोलन चलाकर मंदिर के कपाट खुलने पर भी महिलाओं को प्रवेश नहीं करने दिया था।

ये भी कहा पीठ ने-

- 28 सितंबर को दिए गए आदेश पर फिलहाल किसी भी तरह की रोक नहीं लगेगी
- पुनर्विचार याचिकाओं पर सुनवाई का मतलब पिछले फैसले को खारिज करना नहीं
- पुरानी याचिकाओं पर ही सुनवाई होगी किसी नई याचिका को अभी प्रक्रिया में जगह नहीं मिलेगी
 

माला लखानी फैशन डिजाइनर के हत्यारे,सिर्फ 6 घंटे में पकड़े गए, वजह बनी रहस्य

 दिल्ली के पॉश इलाके वसंतकुंज में महिला फैशन डिजाइनर माला लखानी के हत्यारोपियों को गिरफ्तार कर दिल्ली पुलिस ने महज छह घंटे में मामला का खुलासा कर दिया, हालांकि हत्या की वजह का पता नहीं चल पाया है। माना जा रहा है कि दोपहर तक दिल्ली पुलिस पत्रकार वार्ता कर हत्या की वजह का भी खुलासा कर देगी।

शुरुआती जांच में सामने आया है कि माला लखानी के जानकार राहुल और अनवर ने अपने दोस्तों के साथ मिलकर उनकी हत्या की। राहुल फैशन डिजाइयर के घर में कपड़े की वर्क शॉप में टेलर था। राहुल ने फैशन डिजाइनर को वर्क शॉप में सिले हुए कपड़े देखने के बहाने बुलाया था। 

राहुल ने साथियों के साथ मिलकर माला लखानी की चाकुओं से गोदकर हत्या कर दी। इस दौरान नौकर बहादुर अपनी मालकिन को बचाने आया तो उसे भी मार डाला। जानकारी के मुताबिक, हत्या से पहले माला लखानी चीखी-चिल्लाई थी। इस पर वहां पहुंचे नौकर बहादुर ने कातिलों से बोला 'क्यों मार रहे हो मेरी मेडम को' तो उन्होंने नौकर को भी मार दिया। इस हत्या में राहुल का साथ अनवर और उसके दोस्तों ने भी दिया। अनवर को दोस्तों के नाम रहमत और वसीम हैं। बता दें कि बृहस्पतिवार सुबह दिल्ली के पॉश इलाके वसंतकुंज में दिल्ली की नामी फैशन डिजाइनर माला लखानी सनसनीखेज हत्या कर दी गई। समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक, 53 वर्षीय महिला फैशन डिजाइनर माला लखानी की उनके ही घर में हत्या कर दी गई, साथ ही उनके नौकर बहादुर का शव भी घर पर ही मिला था। पूरा मामला बुधवार रात 11-12 बजे के बीच का है। 

डबल मर्डर से बृहस्पतिवार सुबह इलाके में अफरातफरी का माहौल रहा। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। पुलिस माला लखानी के घर के आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज की भी जांच कर रही है। जानकारी के मुताबिक, माला लखानी दिल्ली के ही ग्रीन पार्क इलाके में अपना बुटीक चलाती थीं।  दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, फिलहाल गिरफ्तार किए गए तीनों लोग गार्ड का काम करते हैं।  मृतक फैशन डिजाइनर की पहचान माला लखानी के रूप में हुई है, जबकि उनके नौकर की अभी पहचान बहादुर के रूप में हुई है। इस मामले में घर के आसपास रहने वाले लोगों से भी पूछताछ की जा रही है। पुलिस के मुताबिक, माला लखानी और उनके नौकर बहादुर की हत्या चाकू से गोदकर गई है, इस मामले में फिलहाल पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। हालांकि, पुलिस अभी हत्या की वजह का खुलासा नहीं कर रही है। 

राफेल डील जांच मामले में ,जाने हुआ क्या ?

उच्चतम न्यायालय ने भारतीय वायु सेना के लिये फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदे जाने के मामले की न्यायालय की निगरानी में जांच के लिये दायर याचिकाओं पर सुनवाई खत्म हो गई है। करीब चार घंटे तक चली बहस के बाद सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रखा है। बता दें कि भोजनावकाश के बाद फिर से सुनवाई शुरू हुई थी। जिसके बाद एयर वाइस मार्शल चलपति ने कोर्ट पहुंचकर मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के सवालों का जवाब दिया।

इससे पहले उच्चतम न्यायालय ने कहा कि राफेल लड़ाकू विमानों की कीमतों पर कोई भी बहस तभी हो सकती है जब इस सौदे के तथ्य जनता के सामने आने दिये जायें। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा, ‘‘हमें यह निर्णय लेना होगा कि क्या कीमतों के तथ्यों को सार्वजनिक किया जाना चाहिए या नहीं।’’ 

पीठ ने अटार्नी जनरल के के वेणुगोपाल से कहा कि तथ्यों को सार्वजनिक किये बगैर इसकी कीमतों पर किसी भी तरह की बहस का सवाल नहीं है। हालांकि, पीठ ने अटार्नी जनरल को स्पष्ट किया कि यदि वह महसूस करेगी कि ये तथ्य सार्वजिनक होने चाहिए, तभी इनकी कीमतों पर बहस के बारे में विचार किया जायेगा।

केंद्र की ओर से जब अटार्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने बहस शुरू की तो पीठ ने 36 राफेल विमानों की खरीद के मामले में भारतीय वायु सेना के किसी अधिकारी से भी सहयोग का आग्रह किया है। पीठ ने कहा, ‘‘हम वायु सेना की जरूरतों पर विचार कर रहे हैं और हम राफेल विमान के बारे में वायु सेना के किसी अधिकारी से जानना चाहेंगे। हम इस मुद्दे पर रक्षा मंत्रालय के अधिकारी को नहीं बल्कि वायु सेना के अधिकारी को सुनना चाहते हैं।’’ 

वेणुगोपाल ने कहा कि वायु सेना के एक अधिकारी कुछ मिनटों में ही यहां पहुंचने वाले हैं। अटार्नी जनरल ने बहस के दौरान राफेल विमानों की कीमतों से संबंधित गोपनीयता के प्रावधान का बचाव किया और कहा, ‘‘यदि कीमतों के बारे में सारी जानकारी सार्वजनिक कर दी गयी तो हमारे शत्रु इसका लाभ ले सकते हैं। 

विमानों की कीमतों के विवरण का खुलासा करने से इंकार करते हुये वेणुगोपाल ने कहा कि कीमतों के मुद्दे पर वह न्यायालय की और अधिक मदद नहीं कर सकेंगे। 

अटार्नी जनरल ने कहा, ‘‘मैंने खुद भी इसका अवलोकन नहीं करने का निर्णय किया क्योंकि इसके लीक होने की स्थिति में मेरा कार्यालय इसके लिये जिम्मेदार होगा।’’ उन्होंने कहा कि यह विषय विशेषज्ञों के लिये है और, ‘‘हम लगातार कह रहे हैं कि इन विमानों की पूरी कीमत के बारे में संसद को भी नहीं बताया गया है।’’ 

उन्होंने कहा कि नवंबर, 2016 की विनिमय दर के आधार पर सिर्फ लड़ाकू विमान की कीमत 670 करोड़ थी। भारत ने अपनी वायु सेना को सुसज्जित करने की प्रक्रिया में उड़ान भरने के लिये तैयार अवस्था वाले 36 राफेल लड़ाकू विमान फ्रांस से खरीदने का समझौता किया था। इस सौदे की अनुमानित लागत 58,000 करोड़ रुपये है।

वेणुगोपाल ने कहा कि पहले इन विमानों को जरूरी हथियार प्रणाली से लैस नहीं किया जाना था और सरकार की आपत्ति इस तथ्य को लेकर ही है कि वह अंतर-सरकार समझौता और गोपनीयता के प्रावधान का उल्लंघन नहीं करना चाहती।

सुप्रीम कोर्ट ने अतिरिक्त रक्षा सचिव से पूछा कि ऑफसेट के दिशानिर्देशों में 2015 में बदलाव क्यों किए गए थे। इसमें क्या देश हित है? साथ ही कहा कि क्या होगा यदि ऑफसेट पार्टनर कोई उत्पादन नहीं करता? अटार्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने केंद्र से पूछा कि डेसॉल्ट ने अभी तक ऑफसेट पार्टनर का विवरण क्यों नहीं दिया है? सुप्रीम कोर्ट ने 2015 के ऑफसेट के दिशानिर्देशों के बदवाल के बारे में भी पूछा है। वहीं एयर फोर्स ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि 1985 के बाद से हमें कोई नया विमान नहीं मिला है। 

केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार का निधन,

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार के निधन से सियासी गलियारे में शोक की लहर दौड़ गई. राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री  और विपक्ष के नेताओं ने उनके परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की है.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ नेता एच. एन. अनंत कुमार के निधन की सूचना से दुखी हूं. यह हमारे देश और खासकर कर्नाटक के लोगों के लिए सार्वजनिक जीवन का एक बड़ा नुकसान है. मैं उनके परिजनों, सहकर्मियों और असंख्य सहयोगियों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं.   

बता दें कि अनंत कुमार पिछले कुछ महीनों से बीमार चल रहे थे. वह कैंसर से पीड़ित थे. उन्होंने 59 साल की उम्र में बेंगलुरु में अंतिम सांस ली. अनंत कुमार कर्नाटक के बेंगलुरु साउथ से सांसद थे. वह केंद्र सरकार में संसदीय कार्यमंत्री थे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर अनंत कुमार के निधन पर शोक जताया है. उन्होंने लिखा कि अहम सहयोगी और दोस्त के निधन से दुखी हूं. अनंत कुमार के परिवार और समर्थकों के लिए संवेदनाएं. उन्होंने कर्नाटक में पार्टी को मजबूत किया. पीएम ने कहा कि अनंत  कु मा र   अ प ने   अच्छे  कामों के लिए याद किए जाएंगे.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी ट्वीट कर अनंत कुमार के निधन पर शोक जताया. उन्होंने कहा कि बेंगलुरु में सोमवार की सुबह अनंत कुमार जी के निधन की खबर सुनकर दुखी हूं. उनके परिवार और दोस्तों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं. ईश्वर उनकी आत्म को शांति दे.

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच. डी. कुमारस्वामी ने भी अनंत कुमार के निधन पर शोक जताया है. मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्रीय मंत्री और अपने दोस्त अनंत कुमार के निधन के बारे में जानकर दुखी हूं. मूल्यों के प्रति प्रतिबद्ध, जनवादी, जिन्होंने सांसद और केंद्रीय मंत्री के तौर पर देश के लिए बड़ा योगदान दिया है. मैंने अपने एक बड़े दोस्त को  खो दिया है. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे.

वहीं गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर कहा कि सरकार और पार्टी में अनंत कुमार के साथ काम करने की तमाम यादें मेरे दिमाग में हैं. ये यादें मेरे साथ हमेशा बनी रहेंगी. उनके निधन से बीजेपी को बड़ा नुकसान हुआ है. साथ ही यह मेरा व्यक्तिगत नुकसान भी है. 

राजनाथ सिंह ने कहा कि वरिष्ठ सहयोगी और अपने दोस्त अनंत कुमार के निधन से बहुत दुखी हूं. वह अनुभवी नेता थे जिन्होंने अपनी पूरी क्षमता के साथ राष्ट्र की सेवा की. लोगों के कल्याण के लिए उनके जुनून और भक्ति सराहनीय थी. उनके परिवार के प्रति मेरी संवेदनाएं. 

एटीएम ट्रांजेक्शन के लिए ये 4 बैंक वसूलते हैं इतना चार्ज

देश के सभी बड़े बैंक तय सीमा तक फ्री एटीएम ट्रांजेक्शन की सुविधा देते हैं। बैंक ग्राहक एटीएम से एक महीने में निश्चित सीमा तक फ्री ट्रांजेक्शन कर सकते हैं। इस सीमा से ज्यादा ट्रांजेक्शंस पर बैंक फीस वसूलते हैं। हर बैंक की यह फीस अलग-अलग होती है। इसके अलावा यह फीस एटीएम के प्रकार और एटीएम की लोकेशन पर भी निर्भर करती है। आज हम आपके लिए कुछ बैंकों की ट्रांजेक्शन फीस की जानकारी लेकर आए हैं।

एसबीआई की एटीएम ट्रांजेक्शन फीस

-एसबीआई गोल्ड डेबिट कार्ड जारी करने के लिए 100 रुपये और प्लेटिनम डेबिट कार्ड के लिए 306 रुपये लेता है।

- एनुअल मेंटेनेंस चार्ज की बात करें तो एसबीआई क्लासिक डेबिट कार्ड के लिए 100 रुपये, सिल्वर/ग्लोबल/युवा डेबिट कार्ड के लिए 150 रुपये, प्लेटिनम कार्ड के लिए 200 रुपये और प्राइम/प्रीमियम बिजनेस कार्ड के लिए 300 रुपये की फीस लेता है। इनके अलावा इन पर सर्विस टैक्स अतिरिक्त है- डेबिट कार्ड रिप्लेसमेंट के लिए बैंक 204 रुपये और डुप्लिकेट पिन के लिए 51 रुपये का चार्ज लेता है।

एफडीएफसी की एटीएम ट्रांजेक्शन फीस

- एचडीएफसी कार्ड रिप्लेसमेंट के लिए 200 रुपये प्लस सर्विस टैक्स लेता है। इसके अलावा दोबारा पिन जनरेट करने के लिए 50 रुपये फीस लेता है।

 

- वहीं रेगुलर डेबिट कार्ड के लिए एनुअल फीस 150 रुपये, प्लेटिनम डेबिट कार्ड के लिए 750 रुपये, डेबिट कार्ड के रीन्यूल के लिए 150 और प्लेटिनम कार्ड के रीन्यूअल के लिए 750 रुपये की फीस लेता है।

- एचडीएफसी हर महीने 4 फ्री ट्रांजैक्शन की सुविधा देता है।

आईसीआईसीआई बैंक

- आईसीआईसीआई बैंक एटीएम कार्ड पर एनुअल फीस 250 रुपये प्लस जीएसटी, गुम हुए कार्ड की रिप्लेसमेंट के लिए 199 रुपये प्लस जीएसटी वसूलता है। दूसरे बैंक के एटीएम कार्ड से कैश निकालने के लिए हर ट्रांजेक्शन पर 20 रुपये की फीस लगती है।

वहीं आईसीआईसीआई बैंक एटीएम से इसी बैंक के कार्ड से कैश निकालने पर कोई चार्ज नहीं लगता। साथ ही बैलेंस इंक्वायरी के लिए भी कोई चार्ज नहीं चुकाना पड़ता।

कोटेक महिंद्रा बैंक

 कोटेक महिंद्रा बैंक क्लासिक डेबिट कार्ड, सिल्क क्लासिक कार्ड के एनुअल चार्ज के रूप में 200 रुपये, गोल्ड डेबिट कार्ड के लिए 500 और प्लेटिनम कार्ड के लिए 750 रुपये लेता है।

- कार्ड खोने की स्थिति में नये कार्ड को जारी करने के लिए कोटेक 200 रुपये, इमेज डेबिट कार्ड इश्यू करने के लिए 199 रुपये लेता है। वहीं पिन जनरेशन के लिए किसी प्रकार की राशि नहीं ली जाती है।

चुनाव आयोग ने कब तक एक्जिट पोल पर लगाई रोक, जानें

चुनाव आयोग ने पांचों चुनावी राज्यों राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिजोरम में 12 नवंबर से सात दिसंबर तक किसी भी तरह के एक्जिट पोल पर रोक लगा दी है।

आयोग ने प्रत्येक चरण में मतदान खत्म होने के तय समय के 48 घंटे के भीतर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में ओपिनियन पोल या अन्य चुनावी सर्वेक्षणों समेत किसी भी तरह के चुनाव संबंधी समाचारों के प्रसारण पर भी पाबंदी लगा दी है।

 आयोग ने शुक्रवार को जारी बयान में कहा है कि चुनाव को देखते हुए 12 नवंबर सुबह सात बजे से सात दिसंबर शाम 5.30 बजे तक की अवधि के दौरान एक्जिट पोल करने और उसके परिणाम को प्रिंट या इलेक्ट्रॉनिक मीडिया या अन्य किसी भी माध्यम में प्रकाशित या प्रसारित करने पर पाबंदी 

रहेगी।

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ में दो चरणों 12 और 20 नवंबर को मतदान होगा। मध्य प्रदेश और मिजोरम में 28 नवंबर को और राजस्थान और तेलंगाना में सात दिसंबर को वोट डाले जाएंगे।

 

पीएम मोदी का केदारनाथ दौरा होगा बेहद खास

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सात नवंबर को सुबह नौ बजे जौलीग्रांट एयरपोर्ट पहुंचेंगे। जौलीग्रांट में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सहित मंत्रिमंडल के कुछ सदस्य और भाजपा पदाधिकारी उनका स्वागत करेंगे। अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सात नवंबर को पूर्व में तय समय से कुछ देरी से धाम पहुंचेंगे। प्रशासनिक अधिकारियों के अनुसार पीएम मोदी प्रात: साढ़े दस बजे के बाद धाम पहुंचेंगे

,चमोली प्रशासन ने  की तैयारियां
केदारनाथ दौरे को लेकर चमोली प्रशासन ने भी तैयारियां तेज कर ली है। मौसम की खराबी या अन्य कारणों से संभावित इमरजेंसी लेडिंग के लिए जिला प्रशासन सहित अन्य अधिकारियों ने गौचर में तैयारियों का जायजा लिया।  

प्रधानमंत्री की यात्रा के दौरान मौसम खराब होने अथवा अन्य संभावित कारणों से गौचर में प्रधानमंत्री के हेलीकाप्टर लैडिंग की वैकल्पिक व्यवस्था को लेकर जिला प्रशासन ने यातायात, सुरक्षा, सफाई और ठहरने की व्यवस्थाओं पर अधिकारियों से चर्चा की। रविवार को अधिकारियों ने प्रधानमंत्री की यात्रा के दौरान हवाईपट्टी से लेकर आईटीबीपी कैंप तक यातायात व सुरक्षा व्यवस्था को चाक-चौबंद रखने सहित कई तैयारी पर चर्चा की। इस दौरान एसपी तृप्ति भट्ट , एडीएम मोहन सिंह बर्निया, एसडीएम गोपाल राम बिनवाल, एआरटीओ एल्विन रॉक्सी आदि मौजूद थे।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे, दीपावली और कपाट बंद होने को लेकर केदारनाथ मंदिर को सजाया जा रहा है। इसके लिए 15 कुंतल फूल धाम तक पहुंचा दिए गए हैं।  सात नवंबर को प्रधानमंत्री के केदारनाथ भ्रमण को लेकर मंदिर के गर्भगृह से लेकर बाहर के कक्ष की साफ-सफाई पूरी कर दी गई है। सोमवार को मंदिर के अंदर और बाहरी क्षेत्र को 15 कुंतल फूलों सहित आम, बेलपत्री और पीपल के पत्तों की माला से सजाया जाएगा। ऊर्जा निगम द्वारा मंदिर के चारों तरफ रंग-बिरंगी लड़ियां लगाई गई है, जिससे रात को मंदिर की सुंदरता देखते ही बन रही है। श्रीबदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के कार्याधिकारी एनपी जमलोकी ने बताया कि सोमवार से मंदिर की सजावट का कार्य शुरू किया जाएगा। प्रधानमंत्री के कार्यक्रम को लेकर समिति द्वारा अपने स्तर से तैयारियां की गई है।

दीपावली पर जगमगाएंगे दीये
केदारनाथ धाम में इस दीपावली पर मंदिर व परिसर में तिल के तेल से दीये जलाए जाएंगे। इसके लिए छह कनस्तर तिल का तेल धाम पहुंचा दिया गया है। दीये पूरी रात जलते रहे। इसके लिए जरूरी इंतजाम भी किए गए हैं। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सात नवंबर को प्रस्तावित केदारनाथ धाम के दौरे को लेकर एसपीजी, खुफिया विभाग और पुलिस के आला अधिकारी रविवार को केदारनाथ पहुंच गए हैं। अधिकारियों ने धाम में मंदिर से लेकर संगम और अन्य स्थानों पर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया। इस दौरान एमआई-17 हेलीकॉप्टर ने भी क्षेत्र का राउंड लगाते हुए सघन रेकी की। रविवार को एसपीजी के डीआईजी सहित जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल, पुलिस अधीक्षक पीएन मीणा, पुलिस अधीक्षक इंटेलीजेंस स्वीटी अग्रवाल ने केदारनाथ में सुरक्षा सहित अन्य व्यवस्थाओं को जांचा। इस दौरान अधिकारियों ने एमआई-17 हेलीपैड से एमआई-26 हेलीपैड तक स्थलीय निरीक्षण भी किया। पूर्वाह्न 11 बजे एमआई-17 हेलीकॉप्टर से केदारनाथ क्षेत्र के दो चक्कर लगाए, लेकिन हेलीपैड पर बर्फ होने के कारण लैंडिंग नहीं की।

हेलीकॉप्टर सेवा भी हुई बंद 
केदारनाथ में इस यात्रा सीजन में हेलीकॉप्टर सेवा बंद हो गई है। रविवार को पवनहंस, आर्यन और हिमालयन कंपनी के हेलीकॉप्टर भी लौट गए हैं। इस वर्ष यात्राकाल में नौ हेली कंपनियों ने अपनी सेवाएं दी। इस दौरान एक लाख 30 हजार से अधिक श्रद्धालु हेलीकॉप्टर से धाम पहुंचे। हेलीकॉप्टर सेवा के नोडल सहायक सुरेंद्र सिंह पंवार ने बताया कि सभी हेली कंपनियां लौट गई हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के केदारनाथ भ्रमण कार्यक्रम को लेकर तीन कंपनियों के हेलीकॉप्टर दो दिन के लिए हायर किए गए हैं।

दिल्ली का सिग्नेचर ब्रिज चालू, जानिए पांच दिलचस्प बातें

राजधानी दिल्ली के बहुप्रतीक्षित सिग्नेचर ब्रिज का करीब 14 वर्ष के लंबे इंतजार के बाद रविवार को उद्घाटन कर दिया गया। इसे बनाए जाने की घोषणा साल 2004 में दिल्ली की शीला दीक्षित सरकार के वक्त हुई थी और इसका उद्घाटन मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने किया।

यमुना नदी के ऊपर बने इस ब्रिज से उत्तर और उत्तर-पूर्वी दिल्ली के बीच सफर करनेवाले लोगों की समय में बचत होगी। इसके साथ ही, वजीराबाद पुल के ऊपर ट्रैफिक का बोझ भी कम होगा।

उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने इससे पहले कहा था- “पेरिस के एफिल टावर की तरफ सिग्नेचर ब्रिज के टॉप से शहर के विशाल दृश्य को देखकर एंज्वॉय किया जा सकेगा। चार एलिवेटर्स के जरिए विजिटर्स को ब्रिज के टॉप पर ले जाया जा सकेगा, जिसकी कुल क्षमता 50 लोगों की होगी।”

ये भी पढ़ें: सिग्नेचर ब्रिज का हुआ उद्घाटन, 45 मिनट का सफर 10 मिनट में होगा पूरा

आइये जानते हैं दिल्ली के आइकोनिक सिग्नेचर ब्रिच की पांच बड़ी खासियत-

1-यह सिग्नेचर ब्रिज ‘नमस्ते’ के रूप में दिखते हुए देश का पहला केबल स्टाइल ब्रिज है। दूसरे चरण में इस ब्रिज को पर्यटन स्थल के तौर पर विकसित किया जाएगा।

2-ब्रिज के ऊपर ग्राफिक्स आधुनिक और प्रगतिशील भारत को प्रदर्शित कर रहा है। ब्रिज पर 154 मीटर हाई ग्लास व्यूइंग बॉक्स है जो कुतुब मीनार की ऊंचाई से करीब दोगुनी है। 575 मीटर लंबा यह ब्रिज सेल्फी स्पॉट भी होगा। 

3-आठ लेन की यह सिग्नेचर ब्रिज वजीराबाद रोड को आउटर रिंग रोड से जोड़ता है। जिससे गाजियाबाद की तरफ जानेवालों को कम से कम 30 मिनट का समय बचेगा।

4-सिग्नेचर ब्रिज के मुख्य पिलर की ऊंचाई 154 मीटर है। ब्रिज पर 19 स्टे केबल्स हैं, जिन पर ब्रिज का 350 मीटर भाग बगैर किसी पिलर के रोका गया है। पिलर के ऊपरी भाग में चारों तरफ शीशे लगाए गए हैं।

5-यह ब्रिज यहां के आसपास की अर्थव्यवस्था को रफ्तार देगा क्योंकि इसे देखने के ले न सिर्फ एनसीआर और देशभर से बल्कि दुनियाभर के लोग आएंग। इसका निश्चित तौर पर सामाजिक-सांस्कृतिक असर होगा।

गुजरात विधानसभा में घुसा तेंदुआ

गुजरात के विधानसभा सचिवालय में रविवार देर रात एक तेंदुआ घुस गया। वन विभाग और पुलिस के संयुक्त अभियान में तेंदुए को पकड़ने के लिए एक अभियान चलाया गया है। फिलहाल सचिवालय को बंद कर दिया गया है। सीसीटीवी फुटेज में दिख रहा है कि तेंदुआ रात 1 बजकर 53 मिनट पर सचिवालय में घुस गया। यह इलाका सुरक्षा की दृष्टि से बेहद गंभीर माना जाता है। तेंदुए को पकड़ने के लिए पिंजरे लगाए गए हैं।

सचिवालय में मुख्यमंत्री के अलावा सभी मंत्रियों का कार्यालय है ऐसे में सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल उठ रहे हैं। जिस इमारत में यह तेंदुआ घुसा है वह गुजरात सचिवालय की मुख्य बिल्डिंग है। पुलिस ने विधानसभा की आवाजाही पूरी तरह से रोक दी गई है। तेंदुए के गेट नंबर 7 से घुसने की आशंका है। विधानसभा के बाहर कर्मचारियों की भीड़ लगी है और ऑपरेशन के खत्म होने तक उन्हें अंदर जाने की एसपी मयूर चावला ने बताया कि सभी की सुरक्षा को प्राथमिकता दी जा रही है। उन्होंने कहा कि जब तक यह सुनिश्चित नहीं हो जाता कि तेंदुआ पकड़ लिया गया है या चले गया है, तब तक किसी को अंदर नहीं जाने दिया जाएगा। 

कोर्ट में दी अर्जी ,तेजप्रताप यादव ने ऐश्वर्या से मांगा तलाक

आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव शादी के पांच महीने बाद ही अपनी पत्‍नी ऐश्‍वर्या के साथ तलाक लेना चाहते हैं.तेजप्रताप यादव ने पटना सिविल कोर्ट में तलाक की याचिका दायर कर दी है. तेज प्रताप ने याचिका में कहा है कि वह ऐश्‍वर्या के साथ नहीं रहना  चाहते हैं.

जानकारी के अनुसार, लालू यादव के घर में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है. पहले दोनों भाइयों के बीच आई लड़ाई की खबरों के बीच अब बताया जा रहा है कि तेजप्रताप यादव ने अपनी पत्‍नी ऐश्‍वर्या राय से अलग होने का मन बना लिया है. इसके लिए उन्होंने सिविल कोर्ट में तलाक की याचिका दायर कर दी है. तेज प्रताप यादव 13 (1) (1a) हिंदू मैरिज एक्‍ट के तहत तलाक के लिए अर्जी दे दी है.

मिली जानकारी के मुताबिक, कोर्ट ने तेजप्रताप यादव की तलाक की अर्जी मंजूर कर ली है. तलाक की अर्जी का केस नम्बर 1208 है. कोर्ट ने मामले की सुनवाई के लिए 29 नवम्बर की तारीख तय की है. कोर्ट 29 नवम्बर को तेजप्रताप की तलाक की अर्जी पर सुनवाई करेगा.

हवा की बदली चाल, खतरनाक स्तर पर पहुंचा प्रदूषण

हवा की रफ्तार में मामूली सुधार होते ही दिल्ली-एनसीआर के प्रदूषण स्तर में गिरावट दर्ज की गई है। गुरुग्राम को छोड़कर एनसीआर के अन्य शहरों का वायु गुणवत्ता सूचकांक मंगलवार को खतरनाक स्तर से गिरकर बुधवार को बहुत खराब स्तर पर पहुंच गया। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों में दिल्ली का सूचकांक 358 रहा। 
विशेषज्ञों का कहना है कि बुधवार सुबह सतह की हवा में थोड़ी तेजी आई। इससे मंगलवार की तुलना में दिल्ली सहित एनसीआर में हवा की गुणवत्ता के स्तर में सुधार दर्ज किया गया। हालांकि गुरुग्राम में कोई गिरावट दर्ज नही देखी गई है। मंगलवार को दिल्ली का सूचकांक 401 पर था, लेकिन बुधवार को इसमें 43 अंकों की गिरावट दर्ज की गई। दूसरी ओर गाजियाबाद, नोएडा, ग्रेटर नोएडा व फरीदाबाद का सूचकांक 362, 347, 383 व 388 रहा। जबकि गुरुग्राम का वायु गुणवत्ता सूचकांक 416 रिकार्ड किया गया। इसमें पीएम 10 व पीएम 2.5 की मात्रा सबसे ज्यादा रही। 

सफर की तरफ से जारी आंकड़ों के मुताबिक, दिल्ली में औसतन पीएम 10 व पीएम 2.5 की मात्रा 370 व 215 दर्ज की गई। सभी एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग स्टेशनों पर पीएम का स्तर बेहद खराब रिकार्ड किया गया। आने वालों दिनों में भी पीएम की मात्रा पीएम10 व पीएम 2.5 357, 400 और 197 व 242 के बीच रहने की संभावना है।      
  
आज से लागू हो रहा दिल्ली में ग्रैप
दिल्ली में बृहस्पतिवार को ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (ग्रैप) लागू हो जाएगा। एक से दस नवंबर के बीच दिल्ली समेत एनसीआर के शहरों में निर्माण कार्य बंद रहेंगे। स्टोन क्रेसर व हॉट मिक्स प्लॉट भी नहीं चलेंगे। कोयले और बॉयोमॉस से चलने वाली फैक्ट्रियों को चार से दस नवंबर के बीच बंद रखने के निर्देश दिए गए हैं। ट्रैफिक जाम से बचाने व प्रदूषण जांच के लिए यातायात पुलिस व परिवहन विभाग की टीमें तैनात रहेंगी। औद्योगिक इलाकों में कचरे को जलाने से रोकने के लिये दिन-रात पेट्रोलिंग होगी।      

    

दिवाली से पहले यात्रियों को रेलवे का बड़ा तोहफा,

त्योहारों के मौके पर रेलवे ने यात्रियों को राहत देते हुये सालभर में 50 प्रतिशत से कम बुकिंग वाली 15 प्रीमियम रेलगाड़ियों पर से फ्लेक्सी किराया योजना को समाप्त कर दिया है। कम मांग वाले मौसम में, जब टिकट बुकिंग 50 से 75 प्रतिशत तक घट जाती है, ऐसी 32 गाड़ियों में फ्लैक्सी किराया योजना लागू नहीं होगी। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बुधवार को कहा कि रेलवे ने 101 ट्रेनों में फ्लेक्सी किराये की दर को आधार मूल्य के 1.5 गुना के बजाय 1.4 गुना कर दिया है।

रेलवे की ओर से यह कदम जुलाई में आई कैग की रिपोर्ट के बाद उठाया गया है। रिपोर्ट में कहा गया कि सितंबर 2016 में योजना के लागू होने के बाद से सीटें खाली रह जाती है। साथ ही फ्लेक्सी किराया को तर्कसंगत बनाने का सुझाव दिया था। रेलवे के सूत्रों ने कहा कि योजना में बदलाव से रेलवे को करीब 103 करोड़ रुपये का नुकसान होगा। हालांकि, उसने उम्मीद जतायी है कि किराया कम होने से सीटें भरने में मदद मिलेगी और अतिरिक्त राजस्व प्राप्त होगा। 

कम सीटें भरने के कारण जिन रेलगाड़ियों से फ्लेक्सी किराया योजना को हटाया जायेगा उनमें कालका-नयी दिल्ली शताब्दी, हावड़ा-पुरी राजधानी, चेन्नई-मदुरै दुरंतो शामिल है। जिन ट्रेनों में कम मांग अवधि के दौरान फ्लेक्सी किराया लागू नहीं होगा, उनमें- अमृतसर शताब्दी, इंदौर दुरंतो, जयपुर दुरंतो, बिलासपुर राजधानी, काठगोदाम-आनंद विहार शताब्दी, रांची राजधानी सहित अन्य शामिल हैं।भारतीय रेल ने 9 सितंबर 2016 को प्रीमियम रेलगाड़ियों के लिये फ्लेक्सी फेयर योजना पेश की थी। इनमें 44 राजधानी, 52 दुरंतो और 46 शताब्दी गाड़ियां शामिल थी। रेल मंत्री ने ट्वीट में कहा, 'त्यौहार पर रेल यात्रियों के लिए सरकार का तोहफा, रेलवे ने फ्लेक्सी फेयर को मूल किराये के अधिकतम 1.5 गुना से घटाकर 1.4 गुना करने का फैसला किया है, साथ ही 50% से कम बुकिंग होने वाली ट्रेनों पर फ्लेक्सी किराया को पूरी तरह से हटा दिया जाएगा।'