Updated -

कम्पास के बाद जीप की एक और सस्ती एसयूवी भारत में होगी लॉन्च

अमेरिकी कार निर्माता जीप ने हाल ही में अपनी नई लॉन्च हुई कम्पास के बाद कम्पास के ट्रेलहाक एडिशन के प्रोडक्शन की घोषणा की है लेकिन इसके अलावा जीप से एक और नई और सस्ती एसयूवी लाई जाने की बातें कही जा रही हैं। हाल ही में आई एक रिपोर्ट के मुताबिक जीप ने घोषणा किया है कि वह साल 2020 तक अपने 5 नए SUV मॉडल्स बाज़ार में लाएगी जिसमें अगर सबसे सस्ती कोई एसयूवी होगी उसका नाम रेनीगेट होगी। रेनीगेट भी एक कॉम्पैक एसयूवी होगी।

आपको बता दें कि रेनीगेट कॉम्पेक्ट सेडान क्रेटा, और डस्टर को टक्कर देने के लिए उतारी जाएगी और इसकी कीमत का भी निर्धारण इन्ही वाहनों के आधार पर होगा। हालांकि यह भी माना जा रहा है कि रेनीगेट की कीमत हुंडई क्रेता से 1 लाख ज्यादा होगी। नई रेनीगेट को लम्बाई 4.2 मीटर, ऊंचाई 1.7 मीटर और चौड़ाई 1.9 मीटर. जबकि क्रेटा की लंबाई 4.2 मीटर, ऊंचाई 1.6 मीटर और चौड़ाई 1.8 मीटर के साइज में उतारा जाएगा। जबकि इसके निपरीत रेनो डस्टर की बात करें तो इसकी लंबाई 4.3 मीटर, ऊंचाई 1.69 मीटर और चौड़ाई 1.8 मीटर है।

इस लम्बाई को देखते हुए यह तो स्पष्ट तौर पर कहा जा सकता है कि रेनीगेट अन्य कॉम्पेक्ट कारों की तुलना में सबसे ऊँची और चौड़ी कार होगी। रेनीगेट में लोअर पावर वाला आउटपुट इंजन का इस्तेमाल किया जाएगा। और अनुमान है कि इसमें 2.0 लीटर वाला इंजन लगाया जायेगा हालांकि संभावना यह भी है कि कम्पनी इसमें मल्टीजेट इंजन का भी उपयोग कर सकती है। अगर इसमें 2.0 लीटर वाला ही इंजन लगाया जाता है तो इस इंजन से 140 HP का पावर जनरेट होगा। लॉन्चिंग की बात करें तो रेनीगेट को साल 2018 के अंत तक लॉन्च की जा सकती है। रेनीगेट को भी रजगांव स्थित जीप के प्लांट में ही असेम्बल किया जाएगा। यहीं से कम्पास को भी किया गया था।

मारूति सुजुकी ने किया इलेक्ट्रिक वाहनों का वादा, लेकिन कब तक? आइए जानते हैं..

भारत की सबसे बड़ी कार निर्माता मारुति सुजूकी ने शुद्ध मुनाफे में मामूली वृद्धि के बाद तिमाही आय की घोषणा की और बाजार की उम्मीदों को एक बार फिर से मात दे दिया है। जिसके बाद इस इंडो-जापानी कंपनी ने कहा कि वह इलेक्ट्रिक कारों का निर्माण शुरू करेगा। कम्पनी की इस योजना के पीछे भारत सरकार द्वारा साल 2030 तक पेट्रोल और डीजल वाहनों को खत्म कर पर्यावरण के अनुकूल विकल्प देने का है। कंपनी ने यह भी जोर दिया कि यह इलेक्ट्रिक कार सेगमेंट में भी बाजार का लीडर होगा। कम्पनी ने कहा कि हम इलेक्ट्रिक कारों का निर्माण करेंगे।

हम भी इस क्षेत्र में लीडर बनने का इरादा रखते हैं। उक्त बाते हैं अध्यक्ष आर.सी. भार्गव ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कही जहां कंपनी ने अपनी त्रैमासिक कमाई की घोषणा की थी। हालांकि, भार्गव ने भारत में इलेक्ट्रिक कारों के निर्माण की कोई समयसीमा का खुलासा नहीं किया है और मारुति सुजुकी की मूल कंपनी सुजुकी अभी तक इलेक्ट्रिक कारों के विकास को लेकर कोई आक्रामक कदम नहीं उठाया है। लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि मारुति सुजुकी मोटर कॉर्प और टोयोटा मोटर कॉर्प के बीच साझेदारी से इस क्षेत्र को एक नई गति मिल सकेगी।

दोनों जापानी कंपनियां ऑटोमोबाइल उद्योग में उभरती रुझानों जैसे हरित प्रौद्योगिकियों और स्वायत्त ड्राइविंग की ओर बढ़ने का लाभ ले रही हैं। इसके अलावा ऑल-इलेक्ट्रिक बेड़े के लिए कदम मौजूदा उद्योग पारिस्थितिकी तंत्र को निश्चित रूप से बाधित करेगा। सरकार ने पर्यावरण में देश के कार्बन को कम करने के प्रयास में पेट्रोलियम और डीजल कारों के प्रदूषण को रोकने के लिए ऑटोमोबाइल उद्योग को सूचित किया है।

साल 2018 में लॉन्च होगी निसान की नई एसयूवी किक्स, कैप्चर और क्रेता को मिलेगी टक्कर

जापानी ऑटोमेकर निसान ने पुष्टि किया है कि किक्स कॉम्पैक्ट एसयूवी को साल 2018 में भारतीय बाजार में लॉन्च किया जाएगा। ऑटोकार के माध्यम से निसान इंडिय़ा के वरिष्ठ उपाध्यक्ष और प्रबंधन समिति के अध्यक्ष, पेमेन कार्गर ने कहा कि हमारा भारत में अगला उत्पाद किक एसयूवी होगा जो 2018 में लॉन्च होगी।

आपको बता दें कि साल 2013 के बाद से, निसान ने भारतीय बाजार में कोई नया उत्पाद लॉन्च नहीं किया है। किक्स के साथ, निसान के लिए कई नए मॉडल पेश करना है, उन्होंने कहा है कि निसान भविष्य में कई नए उत्पाद भारत में पेश करेगा। इससे मॉडल लाइन अप वैश्विक हो जाएगा, लेकिन भारतीय परिस्थितियों के अनुरूप होगा।

जानकारी के मुताबिक निसान किक्स रेनो के एम 0 प्लेटफॉर्म पर आधारित होगी जो डस्टर और कैप्चर को भी स्थापित करेगा। निसान एक लाभ के रूप में एम 0 प्लेटफॉर्म को उजागर कर रहा है क्योंकि किक की गुणवत्ता बहुत अधिक होगी और कीमतें रेंज में होगी। किक्स का समग्र डिजाइन रेनो मॉडल के समान है। इसका स्टाइल ग्रिल इस एसयूवी को एक आक्रामक रूप देता है। इंटीरियर की बात करें तो किक्स में कनेक्टिविटी ऑप्शंस के साथ 7 इंच इंफोटेनमेंट सिस्टम होगा।

निसान किक्स 1.5 लीटर या 1.6 लीटर डीजल इंजन से लैस होने की संभावना है। इधर 1.5 लीटर डीजल इंजन जल्द ही कैप्चर लॉन्च करने के लिए सुसज्जित है, जो कि 108 बीएचपी बिजली का उत्पादन करता है। रेनो भी डस्टर में तैनात 1.5 लीटर पेट्रोल इंजन की पेशकश कर सकता है।

जल्द नीलाम होगी स्टीव जॉब्स की स्पोर्ट्स कार, लगाई जा सकती है यह बोली

एप्पल कंपनी के संस्थापक स्टीव जॉब्स की बीएमडब्ल्यू स्पोटर्स कार नीलाम होने जा रही है। खबरों के मुताबिक उनकी कार 400,000 डॉलर तक में नीलाम होने की उम्मीद है। सोथबाई ऑक्शन हाउस ने कहा कि ओरेकल के सीईओ लैरी एलीसन ने जॉब्स को यह कार खरीदने के लिए प्रोत्साहित किया था।

हालांकि यहां पर स्पष्ट कर देते हैं कि कारों को लेकर उनके शौक के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है, लेकिन जर्मन ऑटो मोबाइल्स और उनके डिजाइनों के प्रति जॉब्स की विशेष रुचि थी। स्टीव के पास बीएमडब्ल्यू की मोटरसाइकिलें और मर्सिडीज-बेंज की एसएलएस भी थीं।

एक रिपोर्ट के मुताबिक जॉब्स ने अक्टूबर 2000 में यह कार खरीदी थी और 2003 तक यह कार उन्हीं के पास थी। अब 6 दिसंबर को उनकी कार की नीलामी होगी। एप्पल के सह संस्थापक स्टीव जॉब्स का 2011 में निधन हो गया था। स्टीव ने 1976 में अपने घर के गैराज में स्टीव वोज्नियाक के साथ एप्पल की शुरूआत की थी और एप्पल दो तथा मैसिनटोश कंप्यूटर्स का विकास किया। कंपनी डायरेक्टर्स के साथ विवाद के चलते 1985 में उन्होंने कंपनी छोड़ दी। उन्होंने नैक्स्ट कंप्यूटर की स्थापना भी की थी।

1986 में उन्होंने लुकासफिल्म के कंप्यूटर ग्राफिक्स डिवीजन को खरीद लिया और इसे एक स्वतंत्र एनीमेशन स्टूडियो पिक्सर के तौर पर फिर से बनाया। करीब एक दशक बाद 1996 में एप्पल ने नैक्स्ट को खरीद लिया और जॉब्स को एप्पल में वापिस लाया गया। 1997 से जॉब्स ने कंपनी के सीईओ के तौर पर काम शुरू किया।

टोयोटा को क्यों करनी पड़ी सुजुकी की तारीफ?

जापान मशहूर ऑटोमेकर कंपनी टोयोटा ने सुजुकी की तारीफ की है और उसे भारतीय बाजार का मास्टर कहा है। टोयोटा ने आगे कहा कि सुजुकी भारत की 'मास्टर' कंपनी है और टोयोटा को उसका 'स्टूडेंट' बनकर सीखने की जरूरत है। बता दें कि साल की शुरुआत में इन दोनों दिग्गज कंपनियों ने प्रोडक्ट व कॉम्पोनेंट की सप्लाई के अलावा पर्यावरण, सुरक्षा व सूचना प्रोद्योगिकी के क्षेत्र में साथ मिलकर काम करने की योजना बनाई थी। मारूति की सहायक कम्पनी सुजुकी देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी है।

जानकारी के मुताबिक भारत के पैसेंजर व्हीकल सेग्मेंट में इसका 50 फीसदी कब्जा है। कंपनी ने 2020 तक 2 मिलियन यूनिट बेचने का टारगेट रखा है। पिछले वित्त वर्ष मारुति सुजुकी ने 1.5 लाख यूनिट का आंकड़ा पार कर लिया था। इस बारे में टोयोटा मोटर कॉर्पोरेशन के सीईओ (एशिया, मध्य पूर्व और उत्तरी अफ्रीका) हिरोयुकी फुकुई ने कहा, "इस तरह सुजुकी भारत की मास्टर है और टोयोटा उनसे बहुत कुछ सीख सकती है। वो टीचर हैं और हम स्टूडेंट है। फुकुई ने कहा की भारत में काफी उग्र प्रतिस्पर्धा है।

सुजुकी भारत में लंबे समय से है और वो यहां के बाजार व ग्राहकों को अच्छी तरह समझ चुके हैं। हमने सिर्फ सहयोग की घोषणा की है, लेकिन हम एक निष्कर्ष बनाने में जल्दबाजी नहीं करेंगे। ताकि हम एक दूसरे को जान सकें कि टोयोटा क्या करना चाहती है, सुजुकी क्या करना चाहेगी।

6 नवंबर को लॉन्च होगी रेनो कैप्चर

अगर आप प्रीमियम और आकर्षक डिजायन के साथ-साथ दूसरों से अलग दिखने वाली एसयूवी खरीदने का विचार बना रहे हैं तो ये आपके लिए काम की खबर साबित हो सकती है। दरअसल रेनो ने अपनी लोकप्रिय प्रीमियम एसयूवी कैप्चर को भारत में उतारने की घोषणा कर दी है, कंपनी के अनुसार रेनो कैप्चर को 6 नवंबर को लॉन्च किया जाएगा। इसका मुकाबला हुंदई क्रेटा से होगा।

रेनो कैप्चर को डस्टर वाले बी0 प्लेटफार्म पर तैयार किया गया है, रेनो कारों की रेंज में इसे डस्टर के ऊपर पोजिशन किया जाएगा। अंतरराष्ट्रीय बाजार में कैप्चर एसयूवी कई वेरिएंट में मिलेगी, भारत में इसका टॉप वेरिएंट प्लेटिन उतारा जा सकता है। इस में लैदरेट अपहोल्स्ट्री, फुल एलईडी हैडलैंप्स, डायनामिक टर्न इंडिकेटर्स, एलईडी फॉग लैंप्स, कॉर्नरिंग लैंप्स, एलईडी टेललैंप्स और चार एयरबैग समेत कई फीचर मिलेंगे।

भारत आने वाली रेनो कैप्चर में डस्टर वाले पेट्रोल और डीज़ल इंजन मिलेंगे। पेट्रोल वेरिएंट में 1.5 लीटर का एच4के इंजन मिलेगा, जो 106 पीएस की पावर और 142 एनएम का टॉर्क देगा। यह इंजन 5-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स से जुड़ा होगा। डीज़ल वेरिएंट में 1.5 लीटर का डीसीआई के9के इंजन मिलेगा, जो 110 पीएस की पावर और 240 एनएम का टॉर्क देगा। यह इंजन 6-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स से जुड़ा होगा। कयास लगाए जा रहे हैं कि रेनो कैप्चर की कीमत 13 लाख रूपए के आसपास हो सकती है।

बजाज एवेन्जर 150 को टक्कर देने आ रही है सुजुकी इंट्रूडर150, भारत में जल्द होगी लॉन्च

जापानी दोपहिया निर्माता सुज़ुकी, भारतीय बाजार में एक नया क्रूजर मोटरसाइकिल पेश करने के लिए तैयार है, जो कि बजाज एवेंजर से टक्कर लेती नजर आएगी। कम्पनी ने इस बाइक को सुजुकी इंट्रूडर150 नाम दिया है। दरअसल हाल ही में नई सुजुकी इंट्रूडर150 की कुछ इमेज लीक हुई हैं और माना जा रहा है कि इस क्रूजर बाइक को भारत में 5 नवंबर से 7 नवंबर, 2017 के बीच लॉन्च कर दिया जाएगा। इस नई बाइक में हमें कई खासियतें देखने को मिल सकती हैं।

इन तस्वीरों के माध्यम से पता चल रहा है कि सुजुकी इंट्रूडर150 ने अपने से बड़े मॉडल से कई डिजाइन्स को उधार लिया है। इसका समग्र स्टाइल वर्सटाइल है व ईंधन टैंक डिजाइन और सिग्नेचर हेडलैंप के साथ लॉन्च किया जाएगा। सुजुकी इंट्रूडर150 में एक प्रोजेक्टर एलईडी हेडलैम्प, स्पोर्टी दिखाने के लिए एलईडी टेल लैम्प और ईंधन टैंक है।

क्रूजर मोटरसाइकिल भी दोहरे बंदरगाह निकलता है जो कि गिक्सर सीरीज के समान है। सुजुकी इनट्रूडर 150 की मौजूदा 155 सीसी एयर कूल्ड, सिंगल-सिलेंडर इंजन से 14.5 बीएचपी पर 14 एनएम के टॉर्क को प्रोड्यूज करेगा। ब्रेकिंग सिस्टम को दोनों छोरों पर डिस्क ब्रेक द्वारा नियंत्रित किया जाता है और मोटरसाइकिल को भी एक एकल चैनल एबीएस को गिक्स एसएफ़ के समान मिल जाता है।

नई फोर्ड इकोस्पोर्ट फेसलिफ्ट के वे फीचर व स्पेशिफिकेशन

फोर्ड ने भारत में साल 2013 में ईकोस्पोर्ट को पहली बार लॉन्च किया था और अब लगभग चार सालों बाद इस अमेरिकी कार निर्माता ने इकोस्पोर्ट को एक बार फिर से नए कलेवर में लॉन्च करने जा रही है। जहां कम्पनी ने नई इकोस्पोर्ट में कई फीचर्स व स्पेशिफिकेशन को जोड़े हैं।

बावजूद इसके अब भी आपके दिमाग में यही चल रहा होगा कि आखिर कम्पनी इस नई इकोस्पोर्ट में कॉस्मेटिक परिवर्तनों के अलावा इंटीरियर जोड़े हैं जो इसे मारुति ब्रेज़्ज़ा और टाटा नेक्सन को टक्कर देने के लिए भारत में उतारेगा तो आपके परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि हम आपको इस बारे में पूरी जानकारी देने जा रहे हैं। नया पेट्रोल इंजन नई फोर्ड इकोस्पोर्ट का सबसे महत्वपूर्ण अपडेट इसका आल न्यू पेट्रोल इंजन हैं। इसका पिछला मॉडल तीन अलग-अलग इंजनों के साथ उपलब्ध था।

जिनमें 1.0-लीटर इकोबोस्ट पेट्रोल, 1.5 लीटर प्राकृतिक रूप से एस्पिरेटेड पेट्रोल और 1.5 लीटर डीजल इंजन है। अब, पुराने 1.5-लीटर पेट्रोल इकाई को नई ड्रैगन सीरीज के 1.5 लीटर इंजन से बदल दिया जाएगा। पुराने 1.5 लीटर पेट्रोल इंजन में 110 बीएचपी पर 140 एनएम टॉर्क उत्पादित होता था जबकि नया 1.5 लीटर यूनिट123bhp पर 150Nm का उत्पादन करती है। नई ईकोस्पोर्ट पर 13bhp पर 10Nm टॉर्क की छलांग इस कॉम्पैक्ट एसयूवी को अधिक शक्तिशाली बना देगा, जबकि पुराने इंजन की तुलना में 7 प्रतिशत अधिक ईंधन दक्षता प्रदान की जाएगी। नया ऑटोमैटिक गियरबॉक्स नए फोर्ड इकोस्पोर्ट पेट्रोल इंजन को पिछले मॉडल की तरह मैनुअल और ऑटो गियरबॉक्स दोनों में पेश किया जाता है, लेकिन यहां अब एक बदलाव आया है।

पिछला ऑटो गियरबॉक्स एक हाई-तकनीक, ड्यूल क्लच 6-स्पीड गियरबॉक्स से लैस है जबकि नई इकोस्पोर्ट ऑटो गियरबॉक्स पैडल के माध्यम से स्थानांतरित 6-स्पीड टॉर्क कनवर्टर के साथ अधिक शानदार है। नया अलाय व्हील पिछली इकोस्पोर्ट को 16 इंच के अलाय व्हील के साथ पेश किया गया था, जबकि नया मॉडल 17 इंच के अलाय व्हील के साथ आएगा। इकोस्पोर्ट पर नए 17 इंच के पहिए एसयूवी को एक नया लुक देते नजर आएगें। ट्राई प्रेशर मॉनिटर फोर्ड ने नई ईकोस्पोर्ट पर टायर प्रेशर मॉनिटरिंग सिस्टम (टीपीएमएस) को जोड़ा है।

इससे आपको हर समय टायर के दबाव की निगरानी में मदद मिलेगी। टीपीएमएस शीर्ष-संस्करण टाइटेनियम + पर उपलब्ध होगा। इनहेंस केबिन स्पेस फोर्ड ने नई ईकोस्पोर्ट के यात्रियों के लिए बैठने की स्थिति और अधिक स्थान की पेशकश करने के लिए पीछे की सीट पर फिर से काम कर रहा है। मारुति ब्रेज़्ज़ा और टाटा नेक्सन ने पीछे यात्रियों के लिए केबिन स्पेस के साथ खरीदारों को प्रभावित किया है। फोर्ड को इकोस्पोर्ट के साथ इस मुद्दे को संबोधित करना पड़ रहा है और संभव है नए बदलावों के साथ एक विशाल ईकोस्पोर्ट की पेशकश की जाएगी।
 

भारत में जल्द लॉन्च होगी मर्सिडीज-एएमजी सीएलए 45 और जीएलए 45

जर्मन ऑटोमेकर मर्सिडीज-बेंज नए एमजी सीएलए 45 और जीएलए 45 के शुभारंभ के साथ भारतीय बाजार में एएमजी लाइनअप का विस्तार करने के लिए तैयार है। मर्सिडीज-बेंज ने घोषणा किया है कि एएमजी सीएलए 45 और जीएलए 45 को 6 नवंबर, 2017 को भारत में लॉन्च किया जाएगा।

दो नए मॉडल की लॉन्चिंग के साथ, अकेले 2017 में एएमजी मॉडल की कुल संख्या सात तक बढ़ गई है। एएमजी सीएलए 45 और जीएलए 45 कंपनी के प्रवेश स्तर के मॉडल हैं। दोनों मॉडल मौजूदा 2-लीटर इन-लाइन चार-सिलेंडर, टर्बोचार्ज्ड इंजन से 375 बीएचपी पर 475 एनएम के टॉर्क का उत्पादन कर रहे हैं। इंजन को एएमजी स्पीडिशफ्ट डीसीटी 7-स्पीड स्पोर्ट्स गियरबॉक्स के साथ लैस किया गया है। एएमजी सीएलए 45 और जीएलए 45 एएमजी प्रदर्शन 4 एमएटीआईसी सभी व्हील ड्राइव सिस्टम से लैस है। इसके अलावा, दोनों नए मॉडल AMG गतिशील प्लस पैकेज प्राप्त करते हैं जिसमें चार मोड शामिल हैं। डिजाइन मोर्चे पर, नई एएमजी सीएलए 45 और एएमजी जीएलए 45 बाहरी डिजाइन में छोटे परिवर्तन दिखते हैं। कारों में पीले विवरण के साथ एक नई चमकदार ब्लैक कलर की योजना है।

नए मॉडल में एएमजी स्टाइल किट भी शामिल है जिसमें ब्लैक ग्रिल, एएमजी बैडिंग ऑन स्लेट और आक्रामक रूप से डिज़ाइन बम्पर शामिल हैं। एएमजी सीएलए 45 और जीएलए 45 के साइड प्रोफाइल में एएमजी ग्राफ़िक्स और फ्रंट बम्पर, ओआरवीएम, टायर की दीवार और रियर बम्पर पर पीले विवरण शामिल हैं। जीएलए 45 एक रियर स्पेलर के साथ आता है। दोनों कारें 1 9-इंच अलाय व्हील से सुसज्जित हैं। नई एएमजी मॉडल की अन्य प्रमुख विशेषताओं में प्रोजेक्टर हेडलैम्प्स, एलईडी, क्वाड एक्जिस्ट, रियर डिफ्यूज़र और एलईडी टेल लाइट शामिल हैं। एएमजी सीएलए 45 और जीएलए 45 के इंटीरियर में एप्पल कार्प्ले, एंड्रॉइड ऑटो और मिरर लिंक के साथ एक इंफोटेनमेंट सिस्टम है।