Updated -

अक्सर स्त्रियों के बारे कहा जाता है कि स्वयं भगवान भी अपनी इस रचना को समझ नहीं पाए। किसी भी स्त्री के मन में किस समय क्या चल रहा होता है। इस बात को जानना किसी के बस की बात नहीं है। कुछ एेसी ही बातें है जो अधिकतर स्त्रियों में एक समान शामिल होती हैं। इन्हीं बातों के बारे में आचार्य चाणक्य ने अपनी एक नीति में अच्छे से बताया है। 


श्लोक-
अनृतं साहसं माया मूर्खत्वमतिलोभिता।
अशौचत्वं निर्दयत्वं स्त्रीणां दोषा: स्वभावजा:।।


 
इस श्लोक में आचार्य चाणक्य ने स्त्रियों की 5 बुराइयों के बारे में बताया है जो इस प्रकार है-

इस श्लोक में आचार्य ने कहा है कि ज्यादातर स्त्रियां बात-बात पर झूठ बोलती हैं। झूठ बोलने के स्वभाव के कारण स्त्रियां कई बार मुसीबत में भी फंस जाती हैं।


आचार्य कहते हैं कि बहुत सी स्त्रियों का स्वभाव ऐसा होता है कि वे अचानक ही कुछ भी काम कर बैठती हैं। बिना सोच-विचार के ही कुछ कार्य कर देना स्त्रियों के लिए आम बात हैं।


चाणक्य के अनुसार काफी स्त्रियां बात-बात पर नखरे करती हैं। दूसरों पर अपना प्रभाव बनाने के लिए या अन्य लोगों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने के लिए स्त्रियां तरह-तरह के नखरे दिखाती हैं।


कुछ महिलाएं अतिआत्मविश्वास के चलते मूखर्तापूर्ण कार्य कर देती हैं। ऐसे में उन्हें कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है।


आमतौर पर ज्यादातर महिलाएं धन की लोभी होती हैं। उन्हें धन और स्वर्ण के प्रति खासा लगाव रहता है। धन लालच में कुछ स्त्रियां सही-गलत का भेद भूल जाती हैं।

Searching Keywords:

Whats App

Comments

Leave a comment

Your email address will not be published.