Updated -

mobile_app
liveTv

नई दिल्ली (एजेंसी )। रक्षा मंत्री बनने के बाद राजनाथ सिंह ने पहला दौरा सियाचिन का किया। उन्होंने यहां शहीदों को श्रद्धांजलि दी। सियाचिन में अब तक करीब 1100 जवान शहीद हुए हैं। उनके साथ सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत, उत्तरी सेना के कमांडर ले. जनरल रणबीर सिंह, 14 कॉर्प्स कमांडर और करगिल युद्ध के नायक रहे ले. जनरल वाईके जोशी भी मौजूद थे। राजनाथ ने कहा कि हमारे जवानों ने सियाचिन ग्लेशियर पर अदम्य साहस दिखाया है। यहां की मुश्किल परिस्थितियों में पूरे साहस और उत्साह के साथ जवान देश की सुरक्षा करते हैं। उनके इस अटूट साहस और शक्ति को सलाम। विश्व के सबसे ऊंचे युद्ध क्षेत्र सियाचिन ग्लेशियर पर राजनाथ नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर सुरक्षा-व्यवस्था की समीक्षा करेंगे। सियाचिन के बाद राजनाथ श्रीनगर जाएंगे। यहां वे सेना के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे। पदभार संभालने के बाद राजनाथ ने रावत, एयरचीफ मार्शल बीएस धनोआ और नौसेना अध्यक्ष एडमिरल करमबीर सिंह से मुलाकात की थी। इसके बाद उन्होंने रक्षा सचिव संजय मित्रा और तीन वरिष्ठ अधिकारियों से मिलकर अपने मंत्रालय के अधीन आने वाले कार्यों और प्रोजेक्ट के बारे में जानकारी ली। पिछली मोदी सरकार में राजनाथ गृह मंत्री थे। इस बार यह मंत्रालय भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को दिया गया है।

Searching Keywords:

facebock whatsapp

Similar News