Updated -

भिवानी। इनलो की छात्र इकाई इनसो ने लघु सचिवालय के बाहर स्टॉल लगा कर पकोङे बेचे और पीएम मोदी की सोच पर कटाक्ष करते हुए कहा कि जब युवाओं को पकोङे ही बेचने है तो शिक्षा व सरकार की नितियां किस काम की। उन्होने सरकार से युवाओं के लिए शिक्षा, नौकरी, ऋण व भत्ता देने की मांग की।
पीएम मोदी ने पकोङे बेचने को रोजगार क्या बताया, कि पकोङे पर सियासत हर रोज गरमाती जा रही है। इसी पकोङा सियासत को आगे बढाते हुए इनेलो की छात्र इकाई इनसो के कार्यक्रताओं ने लघु सचिवालय के बाहर स्टॉल लगा कर पकोङे बेचे। साथ ही पकोङे बेचते समय बचत ना होते देख केन्द्र सरकार के खिलाफ बीच-बीच में नारेबाजी करते रहे।
इनसो पदाधिकारी मंदीप सूई ने बताया कि पकोङे तो अनपढ युवा भी बना सकता है। युवाओं को जब पकोङे ही बनाने है तो शिक्षा या सरकार की नितियां उनके किस काम आएंगी। उन्होने कहा कि उन्होने पकोङे बनाने के लिए 300 रुपये का सामान खरीदा और 10 किलो पकोङे बना कर बेचे तो 25 युवाओं के हिस्से केवल 450 रुपये आए। इसमें 300 रुपये तो सामान पर ही खर्च हो गए। बचत केवल 150 रुपये ही आई। इनसो पदाधिकारियों ने कहा कि वो पीएम मोदी से पकोङे की बजाय शिक्षा, नौकरी, उद्योग, ऋण व बेरोजगारी भत्ते की मांग करते हैं।

Searching Keywords:

Whats App

Comments

Leave a comment

Your email address will not be published.